" /> मास्क नहीं पहनने पर 298 मामले हुए दर्ज

मास्क नहीं पहनने पर 298 मामले हुए दर्ज

कोरोना के मामले मुंबई में लगातार बढ़ते जा रहे हैं, ऐसे में कुछ दिन पहले प्रशासन ने मास्क पहनना जरूरी कर दिया है। इसके साथ ही लोगों को चेतावनी दी गई है कि अगर कोई बिना मास्क के बाहर घूमेगा तो उस व्यक्ति पर कार्रवाई की जाएगी। मास्क पहनने की अनिवार्यता लागू होते ही केवल पांच दिनों में 298 मामले दर्ज किए गए हैं।

पुलिस पुरजोर कोशिश कर रही है कि लोग अपनी सुरक्षा का ध्यान रखें लेकिन इसके बावजूद कुछ लोग सोशल डिस्टेंसिंग का पालन नहीं कर रहे हैं और न ही मास्क पहन रहे हैं। सबसे अधिक दिक्कत झोपड़पट्टीयों में देखने को मिल रही है। यहां लोग एक दूसरे के करीब बैठे हुए दिख जाते हैं। 18 अप्रैल से पुलिस ने इन लोगों के खिलाफ कार्रवाई करना शुरू किया और अभी तक विभिन्न पुलिस स्टेशनों में 298 मामले दर्ज किए गए हैं। मुंबई पुलिस के एक अधिकारी ने बताया कि लोग अजीबोगरीब बहाना बनाते हैं। प्रशासन ने कहा है कि अगर मास्क नहीं है तो घर पर कपड़े का बना मास्क का उपयोग करें या रुमाल का उपयोग करें लेकिन इसके बावजूद लोग मास्क नहीं पहन रहे हैं, इसलिए मजबूरन कार्रवाई करनी पड़ रही है।

सार्वजनिक जगहों पर भीड़ इकट्ठा होने के 3369 मामले दर्ज
मास्क ना पहनने के अलावा लोग सोशल डिस्टेंसिंग की धज्जियां उड़ा रहे हैं। कुछ लोग बाहर क्रिकेट खेलते हुए नजर आ रहे हैं तो कुछ लोग बाहर पिकनिक मनाने के लिए निकल रहे हैं। पुलिस ने ऐसे कुल 3369 मामले दर्ज किए गए हैं। मुंबई में लॉक डाउन का उल्लंघन किए जाने के कारण पुलिस ने 4812 मामले दर्ज किए गए हैं। बेवजह गाड़ी का इस्तेमाल 777,  गैर जरूरी दुकान खोलने के 198, होटल और पान की दुकान के 40 और अन्य प्रकार के 80 मामले दर्ज किए गए है। इन मामलों में 5912 लोगों को गिरफ्तार किया गया है, वहीं 2282 लोगों को नोटिस देकर छोड़ दिया गया है एवं 1179 आरोपियों की तलाश जारी है।