" /> मीरा-भायंदर का आखिर रद्द हुआ परिवहन का ठेका

मीरा-भायंदर का आखिर रद्द हुआ परिवहन का ठेका

मीरा-भायंदर महानगरपालिका परिवहन सेवा का ठेका आखिर मंगलवार ६ अक्टूबर को रद्द कर दिया गया है। परिवहन ठेकेदार भागीरथी एमबीएमटी प्रा. लि. को जारी किए गए पत्र में मनपा आयुक्त डॉ. विजय राठोड ने कहा है कि मीरा-भायंदर महानगरपालिका परिवहन उपक्रम की बस सेवा चलाने के लिए बस ऑपरेटर के रूप में ३१ जुलाई २०१९ को एक करारनामा के तहत भागीरथी ट्रांस प्रा.लि. को नियुक्त किया गया था। साथ ही इसके लिए आवश्यक सभी उपाय योजना की सभी जिम्मेदारी ठेकेदार को दी गई थी। कोरोना महामारी के दौरान लोगों को काफी समस्या का सामना करना पड़ रहा है। ऐसे समय में बस सेवा देना आवश्यक होने के कारण ३१ मई २०२० को ५० प्रतिशत क्षमता के साथ बसों को शुरू करने का आदेश राज्य सरकार ने दिया था। इसके अनुसार शहर के नागरिकों के लिए मनपा की परिवहन सेवा शुरू करना आवश्यक था। इसके लिए ठेकेदार को कई बार नोटिस देकर परिवहन सेवा शुरू करने के आदेश दिए गए थे। इसके बावजूद परिवहन सेवा शुरू नहीं किए जाने के कारण ठेका रद्द कर दिया गया था।
बाद में ठेकेदार से हुई चर्चा के बाद २५ सितंबर २०२० को पुनः इसी ठेकेदार को मूल करारनामा के अनुसार पूरक करारनामा बनाकर परिवहन का ठेका दिया गया था। काफी समय बीत जाने के बाद ठेकेदार परिवहन सेवा शुरू करने में सक्षम नहीं हुआ, इसलिए भागीरथी ट्रांस प्रा.लि. का ठेका अंततः रद्द कर दिया गया है। अब परिवहन सेवा को मनपा खुद चलाएगी या दूसरा ठेकेदार नियुक्त करेगी, इसका निर्णय अभी नहीं लिया गया है। बता दें कि शिवसेना विधायक व प्रवक्ता प्रताप सरनाईक ने परिवहन का ठेका रद्द करने की मांग की थी। इसके अलावा विधायक गीता जैन ने भी परिवहन का ठेका रद्द करने की मांग के साथ १२ अक्टूबर से अनिश्चितकाल के लिए अनशन करने की चेतावनी दी थी।