मुंबईकरों को मिलेगा नापकर पानी

मुंबई के कई भागों में कम दबाव में जल आपूर्ति की जाती है तो कई भागों में अच्छी तरह जलापूर्ति की जाती है, जिसके कारण भारी संख्या में मुंबईकरों पर जलापूर्ति को लेकर अन्याय होता है। मुंबई में कहां, कितनी जलापूर्ति की जाती है? इसकी नापतौल करने के लिए कोई यंत्रणा नहीं है। मनपा द्वारा केवल दस प्रतिशत पानी कटौती करने से कई भागों में लोगों को तीव्र पानी की समस्या से जूझना पड़ता है। इस बात को ध्यान में रखकर प्रत्येक वॉर्ड में समान पानी की आपूर्ति हो, इसके लिए हर जोन की जलवाहिनी में फ्लोमीटर लगाए जाएं और पानी का दबाव नापने के लिए दाब मापक यंत्र। उसके अनुसार जलापूर्ति की जाएगी, ऐसी जानकारी कल विधान परिषद में नगर विकास राज्य मंत्री योगेश सागर ने दी। कुलाबा सहित महापालिका के ‘ए’ वॉर्ड के गीतानगर, गणेश मूर्ति नगर, आंबेडकरनगर, संक्रमण शिविर, शिवशक्तिनगर, शिवसृष्टिनगर, मच्छीमार नगर १,२,३,४ और ५, महात्माफुले नगर, गरीब जनता नगर, सुदामनगर, दर्यानगर, कुलाबा मार्वेâट इन क्षेत्रों में पानी की गंभीर समस्या है। इस मामले को एड. राहुल नार्वेकर ने ध्यानाकर्षण के माध्यम से विधान परिषद में उपस्थित किया था। आंबेडकर नगर सहित कई भागों में गंदे पानी की शिकायत आती रहती है। सदस्यों के सवालों का जवाब देते हुए गंदे पानी की शिकायत मिलने के २४ घंटे के अंदर निवारण करने का आदेश महानगरपालिका को दिया गया है, ऐसा योगेश सागर ने बताया। दक्षिण मुंबई की पानी समस्या जल्द से जल्द दूर होगी।
महानगरपालिका में नए नल कनेक्शन जोड़ने के लिए भारी पैमाने पर आवेदन आए हैं परंतु इन आवेदनों पर किसी भी प्रकार का निर्णय नहीं लिया जाता है। इस सवाल पर योगेश सागर ने कहा कि ३० दिन के अंदर निर्णय लेकर नल जोड़ने के लिए मनपा प्रशासन को आदेश दिया जाएगा।