मुंबई आ रही है सेकेंड एसी लोकल

मुंबई की लाइफलाइन कही जानेवाली लोकल ट्रेनों में समय के साथ-साथ रेलवे बदलाव कर रही है। भारतीय रेलवे ने नई पीढ़ी के यात्रियों की जरूरतों और सुविधाओं को ध्यान में रखते हुए एसी लोकल का निर्माण कर रही है। माना जा रहा है कि चेन्नई के आईसीएफ कोच फैक्ट्री में तैयार हो रही मुंबई की दूसरी एसी लोकल अगले सप्ताह तक मुंबई पहुंच जाएगी।
भारतीय रेलवे में एक नए युग की शुरुआत हो गई है। रेल तकनीकी के मामले में हम अन्य देशों से भले ही कोसों दूर हैं लेकिन हमने नई पीढ़ी की ट्रेनों का निर्माण करना शुरू कर दिया है और इसका जीता जागता नमूना टी-१८ के रूप में सामने है। मुंबई के लिए तैयार हो रही १२ डिब्बा एसी लोकल में वे सारी विशेषताएं हैं जो टी-१८ ट्रेन में है जिससे मुंबईकरों को नई एसी लोकल ट्रेन में सफर के दौरान टी-१८ ट्रेन का अनुभव मिलेगा। वर्तमान लोकल ट्रेन के मुकाबले नई एसी लोकल में १० प्रतिशत यात्री वाहन क्षमता ज्यादा रहेगी। पूरी तरह से वातानुकूलित १२ डिब्बे की एसी लोकल में ड्राइविंग वैâब भी रहेगा।  ऑटोमेटिक दरवाजे के साथ ही एक कोच से दूसरे कोच में बड़े ही आसानी से जाने के लिए वेस्टिब्यूल युक्त कोच होंगे। ट्रेन की स्पीड जहां ११० किलोमीटर प्रति घंटा होगी वहीं कोच पूरी तरह से स्टील का बना है जिसमें स्टील के हैंडल भी लगे होंगे। नई एसी लोकल में जीपीएस आधारित पैसेंजर  इंफॉर्मेशन सिस्टम, सभी कोचों में सीसीटीवी वैâमरा, पैसेंजर टॉक बैक सिस्टम, इमरजेंसी अलार्म, साथ ही ट्रेन की सीट इस तरह से तैयार की गई है ताकि यात्री आरामदायक सफर का आनंद उठा सकें। एसी लोकल का ब्रेक लगने पर बिजली पैदा होने के साथ ही ३५ प्रतिशत बिजली की बचत भी होगी। इतना ही नहीं जब एसी लोकल की स्पीड बढ़ानी या फिर घटानी होगी तो कम समय लगेगा। इसी तरह की और भी कई विशेषताएं दूसरी एसी लोकल में होंगी। इस साल मुंबईकरों को कुल १२ एसी लोकल की सौगात मिलेगी, जिसमें से ६ पश्चिम और ६ मध्य रेलवे के मार्ग पर चलाने की योजना है।