" /> मुंबई की तरह मीरा-भायंदर में हो बप्पा का विसर्जन, मूर्तिकार संगठन ने की आयुक्त से मुलाकात

मुंबई की तरह मीरा-भायंदर में हो बप्पा का विसर्जन, मूर्तिकार संगठन ने की आयुक्त से मुलाकात

मीरा-भायंदर महानगरपालिका आयुक्त डॉ. विजय राठौड़ ने १९ जुलाई को दशा मां उत्सव के दौरान मूर्ति को घरों में ही विसर्जित करने का एक आदेश जारी किया था। इस आदेश से गणेश भक्तों में भ्रम की स्थिति उत्पन्न हो गई है और कई भक्त पीओपी की मूर्ति के ऑर्डर रद्द कर रहे हैं, जिससे मूर्तिकारों को आर्थिक नुकसान का सामना करना पड़ रहा है। इस समस्या के समाधान के लिए मीरा-भाइंदर मूर्तिकार संगठन के अध्यक्ष निखिल तावडे, सचिन पाटील, मूर्तिकार उद्धव भोईर, छोटू पाटील, बाबू पाटील और सचिन रोसले के शिष्टमंडल ने गुरुवार को मनपा आयुक्त से मुलाकात की।

मूर्तिकार संगठन ने मुंबई महानगरपालिका की तर्ज पर मीरा-भाइंदर में भी गणेश उत्सव व मूर्ति विसर्जन से संबंधित नियमों को लागू करने की मांग की है। जिसमें सार्वजनिक मंडलों को ४ फुट ऊंची मूर्ति, घर के लिए २ फुट ऊंची मूर्ति स्थापना, ५ लोगों से अधिक मूर्ति लाने और विसर्जन में शामिल नहीं होने, सोशल डिस्टेंसिंग, सेनेटाइजर का उपयोग करने आदि का समावेश है। मूर्तिकार संगठन का कहना है कि मूर्तिकार मूर्ति बनाने की कला का उपयोग अपने उदर निर्वाह के लिए करते हैं। इसलिए बाहर विसर्जन की बंदी तत्काल रद्द की जाए, तालाब में विसर्जन की अनुमति दी जाए, मूर्ति कारखाने कला केंद्र पर की जानेवाली शासकीय कार्रवाई को रोकें, मूर्ति के संदर्भ में नियमावली बरसात शुरू होने से ६ से ८ माह पूर्व जारी की जाए, अगले वर्ष से अधिकृत मूर्ति कारखानों को शुरू करने की शीघ्र अनुमति दी जाए।

 मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने सादगी से गणेशोत्सव को मनाने का आह्वान सभी भक्तों से किया है। हम उनके वचन का पालन करेंगे। मूर्ति विसर्जन संबंधित नियमों को शिथिल किया जाना चाहिए। मीरा-भाइंदर के १६ गांव में से १४ गांव के पास अपने तालाब हैं, यहां विसर्जन संगठन भी है। कोविड नियमों का पालन करने को भी हम तैयार हैं। आयुक्त हमारे साथ न्याय करें।
– निखिल तावड़े ( अध्यक्ष मीरा-भाइंदर मूर्तिकार संगठन)

 राज्य सरकार के नियमों के अधीन रहकर इस पर विचार-विमर्श कर गणेश उत्सव मनाने व विसर्जन से संबंधित नियमावली शीघ्र जारी करेंगे
– डॉ. विजय राठौड़ ( एमबीएमसी आयुक्त)