" /> मुंबई को संभालेगी आठ वरिष्ठ आईएएस की फौज : अस्पताल से समन्वय, बेड बढ़ाने, प्रबंधन से लेकर मॉनसून कार्य का होगा जिम्मा

मुंबई को संभालेगी आठ वरिष्ठ आईएएस की फौज : अस्पताल से समन्वय, बेड बढ़ाने, प्रबंधन से लेकर मॉनसून कार्य का होगा जिम्मा

मुंबई में कोरोना की बिगड़ती स्थिति को देखते हुए नए मनपा आयुक्त के साथ आठ वरिष्ठ आईएएस अधिकारियों की फौज उतार दी गई है। विभिन्न क्षेत्रों में अपनी कार्यकुशलता के झंडे गाड चुके इन प्रशासनिक अधिकारियों को अलग-अलग जिम्मेदारियां देकर देश की आर्थिक राजधानी को कोरोना संकट से बाहर निकालने का जिम्मा सौंपा गया है।
मुंबई में पिछले एक सप्ताह से प्रतिदिन ६०० से ८०० के बीच कोरोना रोगी सामने आ रहे हैं। इससे मरने वालों की संख्या भी प्रतिदिन १८ से २२ के बीच चल रही है। अब ज्यादा मामले घनी झोपडपट्टियों में निकल रहे हैं। मुंबई में कोरोना जांच की रिपोर्ट आने में दो से सात दिन लग रहे हैं। जिसके रोगियों का इलाज शुरू करने या उन्हें डिस्चार्ज करने में अधिक समय लग रहा है। बारिश का मौसम भी सिर पर है।
यही कारण है कि नए मनपा आयुक्त इकबाल सिंह चहल ने चार्ज संभालते ही भारी बरसात में मुंबई को जाम कर देने वाले नालों की सफाई का जायजा लिया। अब उनके हाथ मजबूत करने के लिए ही आठ वरिष्ठ आईएएस अधिकारियों की नियुक्ति की गई है। कुछ ही समय पहले सायन अस्पताल के एक वार्ड में रोगियों के साथ कोरोना मृतकों के शव रखे होने का वीडियो वायरल हुआ था। इसके बाद ही सायन अस्पताल के डीन का स्थानांतरण किया जा चुका है। इसी बीच, एसोसिएशन ऑफ मेडिकल कंसलटेंट्स मुंबई द्वारा मुख्यमंत्री को लिखे एक पत्र में कोविड-१९ रोगियों का इलाज कर रहे अस्पतालों के बीच आपसी तालमेल की कमी की शिकायत की गई थी। इन समस्याओं को दूर करने की जिम्मेदारी वरिष्ठ आईएएस मनीषा पाटनकर-म्हैसकर को दी गई है।
रणनीति और क्वारंटाइन प्रबंधन
कोविड से संबंधित रणनीति बनाने तथा शहर में क्वारंटाइन प्रबंधन मजबूत करने की जिम्मेदारी एक अन्य वरिष्ठ आईएएस अश्विनी भिड़े को दी गई है। संजीव जायसवाल को स्वयंसेवी संस्थाओं के साथ तालमेल कर पका हुआ भोजन एवं राशन वितरण का कार्य सौंपा गया है। राज्य सरकार के साथ प्रवासियों के मसले भी जायसवाल ही सुलझाएंगे। कोविड-१९ रोगियों के लिए बिस्तरों की संख्या बढ़ाने एवं डॉक्टर, नर्स एवं वार्ड ब्वाय सहित अन्य कोरोना योद्धाओं से तालमेल का काम प्राजक्ता लवंगारे-वर्मा संभालेंगी। मानसून के दौरान मुंबई की व्यवस्था पी.वेलरासू देखेंगे। मुंबई के अन्य अस्पतालों एवं मेडिकल कॉलेजों का प्रबंधन सुरेश काकानी को दिया गया है। इसके अलावा डॉ. एन रामास्वामी एवं आशुतोष सलिल को भी महत्त्वपूर्ण जिम्मेदारियां दी गई हैं।