" /> मुंबई, पुणे और ठाणे समेत महाराष्ट्र में 14 रेड और 16 ऑरेंज जोन

मुंबई, पुणे और ठाणे समेत महाराष्ट्र में 14 रेड और 16 ऑरेंज जोन

देश के मेट्रो शहर रेड जोन में ही रहेंगे, जहां पर कोरोना वायरस फैलने का सबसे ज्यादा खतरा बना हुआ है। इस तरह से दिल्ली और मुंबई समेत कई बड़े शहर को रेड जोन में ही रखा गया है। महाराष्ट्र में महज 6 ग्रीन जोन हैं।
40 दिनों का लॉकडाउन 3 मई को खत्म होगा। 3 मई के बाद हर जिले जोन से पहचाने जाएंगे। देश में अब तक 130 रेड और 284 ऑरेंज जोन हैं। कोरोना वायरस के संक्रमण को रोकने के लिए देश में दो चरणों में 40 दिनों का लॉकडाउन घोषित किया गया था, जो दो दिन बाद 3 मई को खत्म होने जा रहा है। लेकिन केंद्र सरकार ने दो हफ्ते के लिए लॉकडाउन बढ़ाकर 17 मई तक किया है। केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय ने अलग-अलग जिलों में स्थिति के अनुसार इन्हें 3 जोन में बांट दिया है। 3 मई को लॉकडाउन खत्म होने के बाद सभी जिलों पर रेड, ऑरेंज और ग्रीन जोन के हिसाब से नजर रखी जाएगी। महाराष्ट्र में सबसे ज्यादा ऑरेंज जोन हैं।
केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय ने कोरोना के मामलों, दोहरीकरण दर, टेस्टिंग की सीमा और निगरानी प्रतिक्रिया को आधार बनाते हुए देश को 3 जोन में बांटा है। स्वास्थ्य मंत्रालय के अनुसार, देशभर में 130 रेड जोन, 284 ऑरेंज जोन और 319 ग्रीन जोन की पहचान की है। महाराष्ट्र में 14 रेड जोन, 16 ऑरेंज जोन और 6 ग्रीन जोन हैं। पत्र के अनुसार, जिन जिलों में पिछले 21 दिनों से कोरोना का कोई कन्फर्म केस नहीं आया हो या पिछले 21 दिनों से कोई भी मामला दर्ज नहीं किया गया हो, उसे ग्रीन जोन माना जाएगा। स्वास्थ्य मंत्रालय के अनुसार, अभी देश के मेट्रो शहर रेड जोन में ही रहेंगे, जहां पर कोरोना वायरस फैलने का सबसे ज्यादा खतरा बना हुआ है। दिल्ली, मुंबई, चेन्नई, कोलकाता, हैदराबाद, बेंगलुरु और अमदाबाद को रेड जोन में ही रखा गया है।

महाराष्ट्र में रेड जोन वाले शहर
मुंबई, पुणे, ठाणे, नासिक, पालघर, नागपुर, सोलापुर, यवतमाल, संभाजी नगर, सतारा, धुले, अकोला, जलगांव, मुंबई उपनगर।

महाराष्ट्र के ऑरेंज जोन जिले
रायगढ़, नगर, अमरावती, बुलढाणा, नंदुरबार, कोल्हापुर, हिंगोली, रत्नागिरी, जालना, नांदेड़, चंद्रपुर, परभणी, सांगली, लातूर, भंडारा और बीड।

महाराष्ट्र के ग्रीन जोन जिले
धाराशिव, वाशिम, सिंधुदुर्ग, गोंदिया गढ़चिरौली और वर्धा।