मुंबई में कचरा हुआ कम, ७०० मीट्रिक टन कचरा कम करने का लक्ष्य

मुंबई में कचरा शून्य करने के लिए मनपा प्रयासरत है। बीते तीन वर्षों में कचरा का प्रमाण ९,५०० मीट्रिक टन से घटकर ७,५०० मीट्रिक टन पहुंच गया है। इस नए वर्ष में भी मनपा ने और ५०० मीट्रिक टन कचरा कम करने का लक्ष्य रखा है। इस लक्ष्य को पूरा करने के लिए मनपा आयुक्त अजोय मेहता ने गीले कचरे की प्रक्रिया को बढ़ाने पर जोर दिया है।
बता दें कि कल मनपा मुख्यालय में मनपा आयुक्त की अध्यक्षता में सभी विभागों के प्रमुख, उपायुक्त और सभी वॉर्ड के सहायक आयुक्तों की बैठक हुई। इसमें आयुक्त ने नागरी सुविधाओं को लेकर सभी अधिकारियों से जायजा लिया। बैठक में प्रमुख रूप से घनकचरा व्यवस्थापन पर आयुक्त ने जोर दिया। विभिन्न उपाय योजना के तहत दिसंबर २०१९ तक ७०० मीट्रिक टन कचरा कम करने का लक्ष्य रखा गया। आयुक्त ने गीला कचरा पर प्रक्रिया करने के संदर्भ में जनजागृति करने का आदेश दिया।
टोलनाका की तर्ज पर होगी कचरा पर प्रक्रिया
गीला कचरा पर प्रक्रिया कर खाद बनाने के लिए मनपा की जगह पर सीएसआर निधि के तहत केंद्र शुरू करने का मन मनपा ने बनाया है। इन केंद्रों पर टोलनाका की तरह मामूली टोल टैक्स (शुल्क) पर गीला कचरा पर प्रक्रिया की जाएगी। इसका सबसे ज्यादा फायदा उन संस्थानों व सोसायटी को होगा, जो १०० किलो से ज्यादा कचरा उत्पादित करते हैं और उनके परिसर में कचरा पर प्रक्रिया करने की सुविधा उपलब्ध नहीं है।
जिस गाड़ी में आएगा गन्ना, उसी में जाएगा कचरा
मुंबई में गन्ने के जूस की दुकानों के बाहर गन्ने का कचरा बड़े पैमाने पर दिखाई देता है, जिसे आयुक्त ने गंभीरता से लिया है। आयुक्त ने इस संदर्भ में अपने अधिकारियों को इन दुकानदारों को कचरे को लेकर जनजागृति करने के निर्देश दिए हैं। इन दुकानों में गन्ना सप्लाई करनेवाले वाहन अक्सर गन्ना सप्लाई के बाद खाली हो जाते हैं। अब यह गन्ने का कचरा इन्हीं गाड़ियों में भेजने के लिए दुकानदारों को प्रेरित करने का निर्देश आयुक्त ने संबंधित विभागों के अधिकारियों को दिया है। इसके अलावा स्वच्छता सर्वेक्षण के संदर्भ में सभी सहायक आयुक्तों को रोज सुबह ७.३० बजे से आठ बजे तक अपने वॉर्ड परिसर में सफाई कार्यों का निरीक्षण करने का भी आदेश दिया है।
मार्बलयुक्त होंगे मुंबई के फुटपाथ
पेवर ब्लॉकवाले सभी फुटपाथ अब सीमेंट कंक्रीट के बनाए जाएंगे। ६० फुट चौड़ी सड़कों के फुटपाथ को सीमेंट-कंक्रीट का बनाकर उस पर मार्बल चिप की फिनीशिंग दी जाएगी। इसी तरह ९० फुट की सड़कों के फुटपाथ को स्टेंसिल कंक्रीट का बनाया जाएगा और उस पर मार्बल चिप या ब्रूमिंग टेक्चर की फिनीशिंग दी जाएगी।