" /> मुंबई में 11 जून से होगा मॉनसून शुरू! 18 जून तक पूरे राज्य तक फैलने का अनुमान

मुंबई में 11 जून से होगा मॉनसून शुरू! 18 जून तक पूरे राज्य तक फैलने का अनुमान

केरल से अंडमान तक मॉनसून का आगमन 5 जून तक होने का अनुमान है। राज्य में 11 जून तक मौसमी बारिश आने की संभावना है। यह बारिश पूरे राज्य में 18 जून तक फैल जाने का अनुमान है। खरीफ की फसल की तैयारी के मद्देनजर कल मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे की अध्यक्षता में बैठक हुई। इस बैठक में मॉनसून को लेकर उक्त अनुमान लगाया गया है। इस बैठक में उपमुख्यमंत्री अजीत पवार, गृहमंत्री अनिल देशमुख, राजस्व मंत्री बालासाहेब थोरात, जलसंपदा मंत्री जयंत पाटील, कृषिमंत्री दादाजी भुसे, अन्न व औषध प्रशासन मंत्री डॉ. राजेंद्र शिंगणे, सामाजिक न्याय मंत्री धनंजय मुंडे, कृषि राज्यमंत्री डॉ. विश्वजीत कदम, अदिति तटकरे आदि उपस्थित थे। 2020 में मौसमी बारिश सरासरी 96 से 104 प्रतिशत होने का अनुमान है।
राज्य में एलनीनो सामान्य रहेगा। अगस्त-सितंबर में हल्के रूप में एलनीनो की स्थिति रहेगी। इसी प्रकार विभिन्न फसलों के अंतर्गत कुल खरीफ क्षेत्र 140.11 लाख हेक्टेयर है। सोयाबीन और कपास 82 लाख हेक्टेयर के लिए बीज की आवश्यकता 16.15 लाख क्विंटल होगी, जबकि बीज 17.01 लाख क्विंटल है। बीज भरपूर उपलब्ध है। सोयाबीन व कपास की खेती का क्षेत्र 60 प्रतिशत है। सोयाबीन ओर कपास की फसल में इस वर्ष बहुत अच्छी बढ़ोतरी हुई है। इस बैठक में हापुस आम की बिक्री कृषि व पणन विभाग के मार्फत प्रयत्न किए जाने, खेती व कृषि माल को बिक्री के लिए गृह विभाग की अनुमति लेने, कृषि माल को निर्यात करने के लिए आवश्यक फाइटोसेनिटरी के प्रमाणपत्र देने, किसानों की खेती का माल कृषि उत्पन्न बाजार समिति के यहां बिक्री, किसानों को ऑनलाइन मार्गदर्शन व प्रशिक्षण देने, जिले में बीज केंद्र शुरू करने, बीज उत्पादन कंपनी सतत वीसी द्वारा संपर्क करने, कोरोना के मद्देनजर कृषि विभाग जिला और राज्य स्तर पर नियंत्रण कक्ष बनाने आदि विषयों पर इस बैठक में चर्चा की गई।

कपास, ज्वारी, मक्का खरीदारी शुरू करें
राज्य में 410 लाख क्विंटल कपास का उत्पादन हुआ। अब तक 344 लाख क्विंटल कपास की खरीद की जा चुकी है। शेष कपास 15 से 20 जून तक खरीदी जाएगी। कुल 163 कॉटन शॉपिंग सेंटर से प्रतिदिन 2 लाख क्विंटल कपास की खरीद करने का निर्देश दिया गया है। राज्य में 98 हजार 933 किसानों से 9 लाख क्विंटल खरीदा गया है। राज्य में ज्वार, मक्का की खरीद के लिए 75 केंद्र हैं। इसमें 29 जिले शामिल हैं। ग्रीष्मकालीन धान के लिए 293 शॉपिंग सेंटर हैं और अब तक 1 लाख क्विंटल धान की खरीद की जा चुकी है।

महात्मा ज्योति फुले शेतकरी कर्जमुक्ति योजना पर हुआ 60 प्रतिशत अमल
राज्य सरकार द्वारा महात्मा फुले शेतकरी कर्जमुक्ति योजना के तहत अब तक 60 प्रतिशत किसानों को कर्जमुक्ति की गई है। इस योजना पर 60 प्रतिशत अमल किया गया है। इस योजना के तहत 32 लाख खाताधारकों को लाभ देना अपेक्षित था। परंतु मार्च 2020 के अंत तक 19 लाख किसानों के कर्ज खाते में 12 हजार करोड़ रुपए भरे गए है। निधि के अभाव में 11.12 लाख खाता धारकों का 8,100 करोड़ रुपए का लाभ देना अभी बाकी है। किसानों को आसानी से बीज उपलब्ध हो, इसके लिए तीन हजार किसान समूह के माध्यम से नियोजन किया गया है। इस समूह के माध्यम से 54 हजार मेट्रिक टन बीज पहुंचाना शुरू है, यह लॉकडाउन के दौरान भीड़ टालने के लिए प्रयत्न है।

सब्जी व फल बेचने के लिए 3,212 बिक्री केंद्र की स्थापना
लॉकडाउन के बाद प्रतिदिन 2 हजार टन सब्जी और फल 3,200 से अधिक स्थानों पर उत्पादक से उपभोक्ताओं के यहां सीधे बिक्री, इसके अलावा 3,790 समूहों के माध्यम से 9 लाख 68 हजार 550 क्विंटल फल व सब्जी ऑनलाइन सीधे बिक्री के लिए 3,212 बिक्री केंद्र की स्थापना की गई है।