मुंबई से सीखेगी चेन्नई बनाएगी क्रूज टर्मिनल

पर्यटकों के लिए मुंबई हमेशा से ही आकर्षण का केंद्र रही है। अब यहां क्रूज टर्मिनल बन जाने से मुंबई में पर्यटन को और बढ़ावा मिल रहा है। बड़े ही जोश के साथ मुंबई में क्रूज टर्मिनल का विस्तार होने के बाद अब पर्यटन को बढ़ावा देने के लिए मुंबई की तर्ज पर चेन्नई में क्रूज टर्मिनल बनाने की तैयारी चल रही है।
बता दें कि पार्लियामेंट्री स्टैंडिंग कमिटी ने मुंबई के क्रूज टर्मिनल की तर्ज पर चेन्नई पोर्ट की पुनर्रचना कर यहां क्रूज टर्मिनल विकसित करने पर जोर दिया है ताकि यहां विदेशी पर्यटन को बढ़ावा दिया जा सके। जानकारी के अनुसार देश में सर्वाधिक तमिलनाडु में सालाना एक करोड़ से अधिक पर्यटक पहुंचते हैं। इसके बाद महाराष्ट्र, दिल्ली, राजस्थान और केरल का नंबर आता हैं। आमतौर पर देश में चेन्नई, मुंबई और दिल्ली में विदेशी पर्यटक अधिक पहुंचते हैं। जब राज्यसभा में रिपोर्ट गई थी तब सभी सांसदों ने माना था कि कोच्चि और मंगलोर के क्रूज टर्मिनल का भी नवीनीकरण किया जाना चाहिए। साथ ही देश के सबसे पुराने पुडुचेरी पोर्ट को भी विकसित करने की जरूरत है। यहां कार्गो को हैंडल करने के लिए सेटेलाइट पोर्ट निर्माण करने की आवश्यकता है। चेन्नई के इन्नोर और कट्डुपल्ली शहर में पहले से ही दो सेटेलाइट पोर्ट मौजूद हैं। कोचीन में २५ करोड़ रुपए की लागत से यहां एक नया यात्री टर्मिनल तैयार करने की योजना है। यह नया टर्मिनल २,२८५ वर्ग मीटर में पैâला होगा, जहां तीन से छह हजार यात्रियों की क्षमता होगी। यह टर्मिनल ३० अप्रवास केंद्रों, स्वैâनर और बैगेज से युक्त होगा। एक सर्वे के मुताबिक क्रूज टूरिज्म के लिए एक अच्छा इंफ्रास्ट्रक्चर मुहैया कराया जाए तो मुंबई के क्रूज टर्मिनल पर ३२ लाख पर्यटक और ७०० जहाज की व्यवस्था की जा सकती है।