मुंबई हाई‘टाइट’

– गणतंत्र दिवस पर आतंकी वारदात की आशंका।
– पकड़े गए आतंकियों ने किया खुलासा।
– मुंब्रा-संभाजीनगर से ९ आतंकी पकड़े गए थे।
– सभी आइसिस स्लीपर सेल के सदस्य

मुंबई हमेशा से आतंकियों के निशाने पर रही है। २६ जनवरी व १५ अगस्त जैसे राष्ट्रीय त्योहारों पर तो आतंकी वारदातों का खौफ और भी ज्यादा बढ़ जाता है। हाल ही में मुंब्रा में ९ संदिग्ध आइसिस आतंकियों के पकड़े जाने के बाद पुलिस अलर्ट हो गई है। २६ जनवरी को गणतंत्र दिवस है और इसमें महज दो दिन बचे हैं। आतंकियों का यह स्लीपर सेल देश की आर्थिक राजधानी मुंबई में कोई बड़ी वारदात न कर दे, इसके लिए मुंबई पुलिस ने मुंबई को हाई‘टाइट’ कर दिया है। अर्थात ऐसा कड़क बंदोबस्त कर दिया है ताकि आतंकियों के मंसूबे फेल हो जाएं।

आइसिस से जुड़े ९ स्लीपर सेल के आतंकियों को महाराष्ट्र एटीएस ने गत मंगलवार को गिरफ्तार किया। इसमें एक नाबालिग सहित ५ लोगों को मुंब्रा के कौसा इलाके से जबकि ४ अन्य को संभाजीनगर स्थित वैâसर कॉलोनी से गिरफ्तार किया है। गिरफ्तार आरोपियों में शामिल मोहसीन सिराजुद्दीन खान, तकी सिराजुद्दीन खान, मुशाहिद उल इस्लाम, मोहम्मद सरफराज, मजहर अब्दुल रशीद शेख, सलमान सिराजुद्दीन खान, जुम्मन फरहाद अंसारी की उम्र १८ से २५ वर्ष के बीच बताई जा रही है।
परसों महाराष्ट्र एटीएस की टीम ने आइसिस स्लीपर सेल से जुड़े जिन ९ आतंकियों को पकड़ा है, उनसे पूछताछ में सनसनीखेज खुलासा हुआ है। पता चला है कि आतंकी कुंभ में कोई बड़ी वारदात करने की फिराक में थे। एटीएस पिछले महीने भर से इन आतंकियों की हरकतों पर नजर रखे हुए थी। एटीएस की जांच में पता चला है कि ये आतंकी प्रयाग में आयोजित कुंभ मेला में पीने के पानी व खाने में जहर मिलाकर किसी बड़ी आतंकी वारदात को अंजाम देने की फिराक में थे। इसके अलावा गणतंत्र दिवस के दिन भी ये आतंकी किसी वारदात की फिराक में थे।
आइसिस की विचारधारा से प्रेरित ये आतंकी बंगलुरु में सक्रिय ‘पॉपुलर प्रâंट ऑफ इंडिया’ की संभाजीनगर शाखा से जुड़े बताए जा रहे हैं। पॉपुलर प्रâंट को आइसिस से जुड़ा संगठन बताया जा रहा है। संभाजीनगर में संगठन के संचालक सलमान के ठिकाने पर कार्रवाई के दौरान एटीएस को कुछ रसायन, पेन ड्राइव, मोबाइल फोन, लैपटॉप आदि इलेक्ट्रॉनिक गजेट्स, चाकू सहित काफी आपत्तिजनक सामग्री मिली। ये सभी आरोपी आइसिस के स्लीपर सेल के रूप में महाराष्ट्र में आइसिस आतंकियों के लिए जमीन तैयार करने में जुटे थे। फिलहाल आरोपियों के सोशल मीडिया अकाउंट के जरिए आइसिस के संभाजीनगर-मुंब्रा कनेक्शन की तह तक जाने की कोशिश में जुटे एटीएस अधिकारियों ने ९ लोगों को हिरासत में लिए जाने की पुष्टि तो की है लेकिन इससे ज्यादा कुछ भी कहने से इंकार कर दिया है।

साधुओं के वेश में घुसपैठ
कुंभ में ये आतंकी साधुओं एवं श्रद्धालुओं के वेश में घुसपैठ करनेवाले थे। ये आतंकी खाद्य पदार्थों एवं पीने के पानी में विष मिलाकर वहां कहर बरपाने की योजना पर काम कर रहे थे, ऐसा एटीएस की जांच में खुलासा हुआ है। इनके पास से बेहद संवेदनशील रसायन एटीएस को मिला है। इससे यह आशंका भी जताई जा रही है कि ये २६ जनवरी को गणतंत्र दिवस समारोह में मुंबई व आसपास के संवेदनशील जगहों पर किसी बड़ी वारदात को अंजाम देने की फिराक में थे। सूत्रों के अनुसार गिरफ्तार किए गए आतंकियों को अंडरवर्ल्ड के बड़े गैंगस्टर के बेटे द्वारा मदद दिए जाने का खुलासा एटीएस की जांच में हुआ है।

शिक्षित आतंकवादी
गिरफ्तार आतंकियों में से कई युवक उच्च शिक्षित हैं। मुंबई सहित देश भर में आइसिस के लिए आधार बनाने का प्रयास कर रही इस टोली के मुख्य सूत्रदार सलमान, मोहसीन और तकी नामक तीन भाई बताए जा रहे हैं। ये तीनों भाई सोशल मीडिया के जरिए अन्य युवकों का आइसिस से जुड़ने के लिए ब्रेन वॉश करते थे। सबसे बड़ा भाई मोहसीन समूह में शामिल लोगों की गतिविधियों पर नजर रख रहा था।