" /> मुख्यमंत्री की ओर से रायगड को ₹100 करोड़ की तत्काल मदद!

मुख्यमंत्री की ओर से रायगड को ₹100 करोड़ की तत्काल मदद!

-सीएम ने चक्रवात प्रभावित इलाके का लिया जायजा

*मुख्यमंत्री ने की जिले में समीक्षा बैठक
*सभी प्रमुख मंत्री व अधिकारी थे मौजूद

प्राकृतिक चक्रवात का रायगडकरों ने मजबूती से सामना किया, लेकिन चक्रवात ने जिले को भारी नुकसान पहुंचाया है। हमें फिर से खड़ा होना होगा, जिसके लिए सरकार रायगढ़ जिले को आपातकालीन सहायता के रूप में तत्काल 100 करोड़ रुपये प्रदान करेगी। यह घोषणा मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने कल की। प्राकृतिक चक्रवात के कारण रायगड जिले के हुए नुकसान के संबंध में जिला नियोजन कार्यालय सभागृह में आयोजित समीक्षा बैठक में मुख्यमंत्री ने उक्त घोषणा की। इस अवसर पर पर्यावरण मंत्री आदित्य ठाकरे, मत्स्य व्यवसाय मंत्री असलम शेख, नगरविकास, आपत्ति व्यवस्थापन, मदद व पुनर्वसन राज्यमंत्री प्राजक्त तनपुरे, पालकमंत्री कु.आदिति तटकरे, रायगड जिला परिषद अध्यक्ष योगिता पारधी, सांसद सुनील तटकरे, श्रीरंग बारणे, सर्वश्री विधायक भरतशेठ गोगावले, रविशेठ पाटील, जयंत पाटील, बालाराम पाटील, महेश बालदी, महेंद्र दलवी, महेंद्र थोरवे, अलिबाग नगरपरिषद में नगराध्यक्ष प्रशांत नाईक, अतिरिक्त मुख्य सचिव आशिष कुमार सिंह, विशेष पुलिस महानिदेशक राजकुमार व्हटकर, कोकण विभागीय आयुक्त लोकेश चंद्रा, जिलाधिकारी निधी चौधरी, मुख्य कार्यकारी अधिकारी दिलीप हलदे, पुलिस अधीक्षक अनिल पारस्कर आदि उपस्थित थे। इस अवसर पर मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने कहा कि जहां प्रकृति दिन-प्रतिदिन अपने रंग दिखा रही है, सिस्टम को भी अब किसी भी स्थिति का सामना करने के लिए तैयार रहना चाहिए और अच्छी योजना समय की जरूरत है। रायगड जिले में जनप्रतिनिधियों और प्रशासन ने निश्चित रूप से इस संकट का सही तरीके से मुकाबला किया है, जिसके कारण कम से कम जनहानि हुई। इसके लिए जनप्रतिनिधियों और सरकारी मशीनरी का अभिनंदन करते हुए मुख्यमंत्री ने कहा कि पंचनामा के काम पूरे होने में आठ से दस दिन लग सकते हैं। केवल नुकसान का फोटो निकालकर रखते हैं। बारिश शुरू है, इसके लिए पहले उनको घर आने दो। नुकसान की तस्वीरें और वीडियो पंचनामा की कार्यवाही में ध्यान में रखा जाएगा। सबसे पहले, घर और उसके आसपास की सफाई करनी होगी। ताकि इस बरसात के दिन, अस्वच्छता के कारण क्षेत्र में महामारियों का प्रसार न हो।
चक्रवात से हुए नुकसान पर मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने आगे कहा कि सबसे ज्यादा नुकसान बिजली के खंभों को हुआ है। मकान ढह गए हैं। पेड़ गंभीर रूप से क्षतिग्रस्त हो गए हैं। इन सब चीजों को पटरी पर लाने के लिए अधिक तकनीकी जनशक्ति की आवश्यकता होगी। इसके लिए शासन स्तर पर पूरी मदद की जाएगी। साथ ही सरकार तूफान से प्रभावित होनेवाले नागरिकों की भोजन संबंधी समस्याओं का समाधान जरूर करेगी। यह सरकार लोगों के पीछे मजबूती से खड़ी है। इस चक्रवात में अलीबाग तालुका के उमटे गांव के 58 वर्षीय दशरथ बाबू वाघमारे की बिजली खंभा गिरने से मौत हो गई थी। उनके परिवारवालों को चार लाख रुपए का मुआवजा मुख्यमंत्री के हाथों दिया गया। इस बैठक में अतिरिक्त जिलाधिकारी भरत शितोले, अतिरिक्त मुख्य कार्यकारी अधिकारी रणधीर सोमवंशी, अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक सचिन गुंजाल, निवासी उपजिलाधिकारी डॉ.पद्मश्री बैनाडे, उपजिलाधिकारी, प्रांताधिकारी तथा विभिन्न विभागों के विभाग प्रमुख उपस्थित थे।