मुसलमानों की नई अजान, ये टीका कर देगा ‘बेजान’!

सरकार की ओर से बच्चों के लिए चलाई जानेवाली टीकाकरण की किसी भी योजना में मुसलमानों की ओर से नई अजान जारी कर दी जाती है, जिसका सरकारी योजनाओं पर प्रतिकूल प्रभाव पड़ता है। राज्य सरकार की ओर से गोवर-रुबेला जैसी नई बीमारी से मुक्ति के लिए टीकाकरण मुहिम चलाई जा रही है। इस मुहिम को लेकर भी मुसलमानों ने नई अजान दे दी है कि इस टीका को लगवाने से बच्चे ‘बेजान’ हो जाएंगे यानी नपुंसक हो जाएंगे। इस तरह की अफवाहवाला वीडियो बुलढाणा जिला में व्हॉट्सऐप पर वायरल हुआ है।
बता दें कि सरकार की ओर से पोलियो मुक्ति के लिए बच्चों को दो बूंद दवा पिलाने की मुहिम चलाई गई थी। इस दो बूंद दवा से बच्चे को पोलियो जैसी घातक बीमारी से जिंदगीभर के लिए छुटकारा मिल जाता है परंतु सरकार की इस योजना का मुसलमानों ने बहुत विरोध किया था। सरकार की ओर से विभिन्न प्रकार की मुहिम चलाई गई, मुसलमानों में जागरूकता लाने के लिए, उसके बाद भी इस योजना को पूरी सफलता नहीं मिली। गोवर-रुबेला का यह टीका देकर मुसलमानों को नपुंसक बनाने का सरकार का षड्यंत्र है। इस तरह का वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल होने पर मुसलमानों ने इस टीका का तीव्र विरोध शुरू कर दिया है। मुसलमानों के विरोध के कारण सरकार की ओर से इस संबंध में जनजागृति शुरू की गई है। बुलढ़ाणा जिला के जिलाधिकारी डॉ. निरुपमा डांगे ने अपनी लड़की को गोवर-रुबेला का टीका देकर इस मुहिम की शुरुआत की थी परंतु गोवर-रुबेला टीकाकरण के संबंध में सोशल मीडिया में अफवाह के पैâलने और वीडियो वायरल होने के बाद मुस्लिम स्कूलों में अपने बच्चों को टीका लगवाने से मुस्लिम पालकों ने नकार दिया, जिसके बाद स्वास्थ्य अधिकारियों ने उच्च शिक्षित मुस्लिमों की बैठक लेकर टीका का महत्व समझाने का प्रयास शुरू किया है।
३० बालकों में ‘रिएक्शन’
गोवर-रुबेला टीकाकरण मुहिम गत २७ नवंबर से शुरू है। अकोला जिला में पिछले चार दिन में ३० स्कूली बच्चों में टीका के रिएक्शन होने की बात सामने आई है, जिसमें २ लड़कियों को अस्पताल में भर्ती कराना पड़ा। टीकाकरण के कारण जिन बच्चों में रिएक्शन हुआ है, उनमें संस्कृति अरुण सोनाने, श्रेया मूलसिंह राठौड़ आदि का समावेश है। जिन बच्चों में रिएक्शन हुआ है, उसमें बच्चियों की संख्या अधिक है। रिएक्शन से बच्चों को उल्टी होना, शरीर में खुजली होना, शरीर पर छोटी-छोटी फोड़ी निकलना आदि तरह का रिएक्शन हो रहा है। २७ नवंबर को ५, २८ नवंबर को १३, २९ नवंबर को ५ और ३० नवंबर को ७ बच्चों में टीकाकरण का रिएक्शन हुआ था। अकोला जिले में ३० नवंबर तक ८८ हजार बालकों का टीकाकरण किया गया था। अकोला जिला स्वास्थ्य अधिकारी डॉ. एम.ए. राठोड के मुताबिक अपवादात्मक परिस्थिति में रिएक्शन होने की संभावना है, इससे पालकों को घबराने की कोई आवश्यकता नहीं है।