मुहूर्त की मचमच, नामांकन की तिथि में छुट्टियों की अड़चन

किसी भी शुभ कार्य के लिए मुहूर्त जरूर देखा जाता है। चुनावी मैदान में उतरे उम्मीदवार इसमें वैâसे पीछे रह सकते हैं? उम्मीदवारी घोषित होने के बाद प्रत्याशी अपना नामांकन भरने के लिए शुभ मुहूर्त के प्रतीक्षा में हैं। पंडितों ने जो शुभ मुहूर्त बताया है उस दिन सरकारी छुट्टियों की अड़चन आ रही है और जो शुभ समय बताया है उस समय सरकारी अफसरों का कार्यालय में उपस्थित रहना असंभव है। इसके चलते मुहूर्त की मचमच हो रही है।

बता दें कि लोकसभा चुनाव का बिगुल बज गया है। कई राजनीतिक पार्टियों के उम्मीदवार प्रचार में जुट गए हैं। कल से नामांकन भरने की प्रक्रिया हो रही है, जो नौ अप्रैल तक चलेगी। ऐसे में उम्मीदवार अपना नामांकन भरने के लिए पंडितों से शुभ मुहूर्त निकाल रहे हैं। पंडितों की मानें तो दो अप्रैल के बाद छह अप्रैल, सात अप्रैल, आठ अप्रैल और नौ अप्रैल नामांकन भरने के लिए शुभ दिन है। छह अप्रैल शनिवार को गुढ़ी पाडवा और सात अप्रैल को रविवार होने के कारण इन छुट्टियों के दिन चुनावी कार्यालय बंद रहेंगे। इन दो दिनों में उम्मीदवार अपना नामांकन भरने से दूर रहे हैं। ज्योतिषियों के मुताबिक आठ अप्रैल को सबेरे दस बजे तक का ही समय शुभ माना गया है जबकि नौ अप्रैल नामांकन भरने की अंतिम तिथि है। इस दिन चार बजे के बाद से शुभ समय शुरू होने की बात पंडितों ने कही। आठ अप्रैल को बताए गए समय पर चुनावी अधिकारियों का मौजूद रहना असंभव है और नौ अप्रैल को शाम पांच बजे तक उम्मीदवार अपना नामांकन भर सकेंगे। शुभ दिन और समय के इस चक्रव्यूह में उम्मीदवार पूरी तरह से फंस गए हैं। उम्मीदवार पसोपेश में हैं कि वे अपना नामांकन वैâसे भरें? कुछ उम्मीदवारों ने तो चुनाव आयोग से गुढ़ी पाडवा पर कार्यालय शुरू रखने की मांग तक कर दी है।

पहले दिन दो उम्मीदवार
कल नामांकन भरने की प्रक्रिया शुरू हो गई है। नौ अप्रैल तक नामांकन भरने की प्रक्रिया चलेगी। मुंबई की छह लोकसभा सीटों में से सिर्फ दो उम्मीदवारों ने पहले दिन नामांकन भरा है। उत्तर मुंबई से महायुति के प्रत्याशी गोपाल शेट्टी ने जहां नामांकन भरा है वहीं दक्षिण मुंबई से क्रांतिकारी जय हिंद सेना के रामचंद्र नारायण कच्छवे ने नामांकन भरा है।