मूंछें हों, तो ऐसी!, ‘अभिनंदन कट’ का मुंबई में क्रेज

पाकिस्तान की कैद में ६० घंटे बिताकर हिंदुस्थान लौटे वायुसेना के विंग कमांडर अभिनंदन देश के युवाओं के आइकॉन बन चुके हैं। सोशल मीडिया पर उनकी बहादुरी की जमकर तारीफ हो रही है। उनकी तस्वीरें लोगों ने अपनी प्रोफाइल पिक्चर में लगा रखी हैं। इसी क्रम में अब अभिनंदन की मूंछ भी युवाओं में पैâशन का नया ट्रेंड बन गया है। मुंबई सहित पूरे देशभर में युवकों में अभिनंदन के मूंछ की तरह अपनी भी मूंछ रखने की होड़ मची हुई है। इस होड़ को देखते हुए मुंबई के सैलून वालों ने अपने दुकानों के बाहर अभिनंदन की तस्वीरें लगा रखी हैं और उन तस्वीरों पर मूंछें हों तो अभिनंदन जैसी भी लिख रखा है।
अभिनंदन की वापसी पर पूरा देश जश्न मना रहा है। मुंबई सहित देशभर का युवावर्ग विंग कमांडर का पैâन हो चुका है। हर कोई अभिनंदन को फॉलो कर रहा है। इन दिनों उनकी मूंछ की स्टाइल युवाओं के बीच पैâशन का ट्रेंड बना हुआ है।
सोशल मीडिया में बहुत से लोगों ने अभिनंदन की मूंछों पर स्केच बनाए और लिखा। वहीं दूसरी तरफ अमूल ने मूंछों पर एक विज्ञापन वीडियो बनाया। २४ घंटे के अंदर ही इस वीडियो को १,७०,००० व्यू और ३,००० लाइक मिल चुके हैं। युवाओं में छाए इस पैâशन क्रेज का फायदा सैलूनवालों को भी हो रहा है। पूर्वी उपनगर के गोवंडी परिसर में महाराष्ट्र हेयर कट सैलून के मालिक मोहम्मद नूर ने बताया कि अभिनंदन की तरह हेयर कट और मूंछें बनाने के लिए रोजाना २ से ३ युवा उनके पास आ रहे हैं। युवाओं में बढ़ रहे इस पैâशन ट्रेंड को देखते हुए उन्होंने इसके लिए ऑफर भी रखा है। ऑफर में २० प्रतिशत का डिस्काउंट भी दिया जा रहा है। महाराष्ट्र हेयर कट के अलावा परेल पूर्व स्थित स्टायलो सैलून के मालिक खालिद सलमानी ने बताया कि अभिनंदन की मूंछ के पैâशन ट्रेंड का फायदा उनको भी हो रहा है। रोजाना १ से २ युवा अभिनंदन की तरह लुक पाने के लिए आ रहे हैं। हालांकि उस तरह का लुक देने में काफी समय लगता है लेकिन कमाई भी उसी तरह होती है। नावेद सिद्दीकी नामक युवक का कहना है कि हर हिंदुस्थानी को अभिनंदन पर गर्व है। उनका जज्बा देखकर युवा वर्ग उनसे काफी प्रेरित है इसलिए उनका लुक पाना हर युवा सोचता है। कुछ इसी तरह का जज्बा पेशे से कंप्यूटर इंजीनियर नफीस अंसारी ने भी दिखाया। उन्होंने बताया कि उन्हें भी अभिनंदन की तरह बनना और उनकी तरह दिखना पसंद है। नफीस ने बताया कि उनकी तरह मूंछें रखने के लिए वे अपनी मूंछें बढ़ा रहे हैं।