मृतकों के आश्रितों को मिलेंगे ५-५ लाख रुपए, ठेकेदारों पर मामला दर्ज

शिवसेना नगरसेवक एवं विरोधी पक्ष नेता राजू भोईर के मार्गदर्शन में प्रेमनगर के ६० से ७० निवासियों ने गुरुवार को मनपा आयुक्त बालाजी खतगावकर से मुलाकात कर एसटीपी (सीवरेज ट्रीटमेंट प्लांट) से जुड़ी समस्या और अपनी दहशत से अवगत कराया। भोईर ने केंद्र के अंदर की टंकी को चारों तरफ से पत्राशेड लगाकर घेरने, टंकी पर ढक्कन लगाने, मशीन पर साइलेंसर लगाने, दुर्गंध रोकने के समुचित उपाय करने, प्लांट पर चिमनी लगाने, चारदीवारी की ऊंचाई बढ़ाने, मुख्य द्वार पर सुरक्षा रक्षक की तैनाती और सीसीटीवी लगाने तथा खुले नालों पर ढक्कन लगाने की मांग की है। इन कार्यों पर शीघ्र अमल नहीं किया गया तो भोईर ने एसटीपी को बंद करने के लिए आंदोलन छेड़ने की चेतावनी दी। इस पर आयुक्त ने आगामी सोमवार तक जरूरी कदम उठाने तथा मृतकों के आश्रितों को ठेकेदार से ५-५ लाख रुपए मुआवजा दिलाने का आश्वासन दिया है।
प्रेमनगर म्हाडा परिसर, मीरा रोड-पूर्व में मीरा-भाइंदर महानगरपालिका के मलनि:सरण केंद्र में बुधवार को वाल्व खोलते समय गैस रिसाव से तीन लोगों की मौत हो गई थी। इस मामले में मनपा आयुक्त खतगावकर के आदेश पर शहर अभियंता शिवाजी बारकुंड ने एसपीएमएल इंप्रâा. प्रा. लि. और में. टंडन एंड एसोसिएट्स पर काशीमीरा पुलिस में मामला दर्ज कराया है।
बता दें कि करीब ४९१ करोड़ रुपए की लागत का भूमिगत गटर योजना का कार्य एसपीएमएल इंफ्रा प्रा.लि. नामक ठेका कंपनी को दिया है। सीवरेज ट्रीटमेंट प्लांट के देखभाल और मरम्मत कार्य का ठेका भी ५ वर्षों के लिए इसी कंपनी को दिया गया है। दैनिक पर्यवेक्षण के लिए प्रकल्प व्यवस्थापन सलाहकार के रूप में मे. टंडन एंड एसोसिएट्स कंपनी को जिम्मेदारी दी गई है। काशीमीरा पुलिस के वरिष्ठ पुलिस निरीक्षक वैभव शिंगारे ने बताया कि मनपा ने भले ही दोनों ठेकेदारों के खिलाफ मामला दर्ज कराया है लेकिन हमारी विस्तृत जांच में अगर मनपा का कोई अधिकारी भी दोषी पाया गया तो उस पर भी मामला दर्ज करेंगे।