" /> मेडिकल दुकानदारों को सर्दी, जुकाम की दवाओं का हिसाब रखने का आदेश

मेडिकल दुकानदारों को सर्दी, जुकाम की दवाओं का हिसाब रखने का आदेश

सर्दी, ज़ुकाम की दवा खरीदनेवाले ग्राहक का नाम, पता, फोन नंबर रखने का भी आदेश
लिस्ट देखकर किया जाएगा ट्रैक, फिर होगा कोरोना का टेस्ट
राज्य के मेडिकल दुकानदारों को विशेषकर मुंबई और पुणे के दुकानदारों को निर्देश दिया गया है कि सर्दी, जुकाम की दवा खरीदने आनेवाले ग्राहकों का नाम, पता और फोन नंबर अवश्य रखा जाए और बिना डॉक्टर की पर्ची के बिना दवा न दी जाए। महाराष्ट्र के पुणे में दवा दुकानदारों को ऐसा रिकॉर्ड रखने को कहा गया है।
महाराष्ट्र, आंधप्रदेश, तेलंगाना, बिहार आदि राज्यों की सरकार ने दवा दुकान संचालकों से कहा है कि लिस्ट देखकर दवा खरीदनेवालों को ट्रैक किया जाएगा, जिससे कि उसका कोरोना टेस्ट किया जा सके। बताया जा रहा है कि कोरोना के कई मरीज इसके लक्षण को कम करने के लिए इन दवाओं का इस्तेमाल कर रहे हैं। दरअसल, ऐसे लोग कोरोना के टेस्ट से डर रहे हैं। उन्हें लगता है कि पॉजिटिव पाए जाने पर उन्हें कम-से-कम दो हफ्ते के लिए अस्पतालों में रहना पड़ सकता है या फिर उन्हें क्वारंटाइन में भेजा जा सकता है। इसी डर से लोग पैरासिटमोल और सर्दी-जुकाम की बाकी दवाइयां खा रहे हैं। जानकारी के अनुुसार तेलंगाना में कई ऐसे मामले सामने आए हैं, जहां पता चला कि लोग खुद बुखार की दवा खाकर घर में थे लेकिन बाद में टेस्ट होने पर उनकी रिपोर्ट पॉजिटिव आ गई। ऐसे में राज्य सरकार ने मेडिकल स्टोर चलानेवालों की तुरंत बैठक बुलाई और फिर यहां ये फैसला लिया गया कि आगे से ऐसी दवा खरीदनेवालों का पूरा रिकॉर्ड रखा जाएगा। इसके बाद अन्य राज्यों की सरकारों ने सतर्कता बरतते हुए उक्त कदम उठाएं है। इस संबंध में सबंधित अधिकारियों के अलावा किसी अन्य को इसकी जानकारी न देने की सख्त हिदायत सरकार की ओर से दुकानदारों को दी गई है।