मेरे देश के जवानों में है पाकिस्तान को तोड़ने की ताकत, उद्धव ठाकरे ने दिया पाकिस्तानपरस्तों को कड़ा जवाब

साईनगरी शिरडी के बाद कल हिंदुत्व के गढ़ कल्याण में भगवा तूफान नजर आया। सभा में उमड़े जनसैलाब को संबोधित करते हुए शिवसेनापक्षप्रमुख उद्धव ठाकरे ने कल हिंदुस्थान में रहकर पाकिस्तान की पैरवी करनेवाले पाकिस्तानपरस्तों को करारा जवाब दिया। उन्होंने कश्मीर के पूर्व मुख्यमंत्री महबूबा मुफ्ती पर निशाना साधते हुए कहा कि जब देश के प्रधानमंत्री दुश्मनों को करारा जवाब दे रहे हैं तो तुम्हें बीच में बोलने की क्या जरूरत है? हमें गर्व के साथ हिंदुस्थान के साथ खड़े रहना चाहिए। मेरा देश इतना बलवान और सामर्थ्यवान है कि यदि सचमुच समय आया तो पाकिस्तान के दो टुकड़े करने की ताकत मेरे देश के जवानों में निश्चित ही है।
कल कल्याण लोकसभा निर्वाचन क्षेत्र के शिवसेना-भाजपा-आरपीआई महायुति के प्रत्याशी डॉ. श्रीकांत शिंदे के प्रचारार्थ विशाल सभा आयोजित की गई थी। इस जनसभा में उद्धव ठाकरे ने विपक्ष पर अपनी तोप दागी। उन्होंने कहा कि कांग्रेस-राकांपा की आघाड़ी निराधार है, जब कि शिवसेना-भाजपा महायुति की एक ही विचारधारा और दिशा है। हमारे प्रधानमंत्री का नाम तय है और वो हैं नरेंद्र मोदी जबकि आघाड़ी में सभी प्रधानमंत्री बनने का सपना देख रहे हैं।
दो दिन पहले प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा था कि हिंदुस्थान के पास जो परमाणु बम है, वो दिवाली के लिए नहीं। उनके इस बयान के पीछे का उद्देश्य यह था कि यदि पाकिस्तान ने फिर से हमला किया तो उसे सबक सिखाने के लिए ये बम है। प्रधानमंत्री के इस बयान का जवाब पाकिस्तान को देना चाहिए था लेकिन जवाब दिया किसने? कश्मीर की महबूबा मुफ्ती ने। कश्मीर पाकिस्तान का हिस्सा है या हिंदुस्थान का? ऐसा सवाल करते हुए शिवसेनापक्षप्रमुख उद्धव ठाकरे ने कहा कि पाकिस्तान तो एक तरफ हो गया लेकिन महबूबा मुफ्ती बीच में कूद पड़ीं।
कल कल्याण लोकसभा निर्वाचन क्षेत्र के शिवसेना-भाजपा महायुति प्रत्याशी डॉ. श्रीकांत शिंदे के प्रचारार्थ विशाल सभा आयोजित की गई थी। इस दौरान उद्धव ठाकरे विपक्ष पर जमकर दहाड़े। उन्होंने कहा कि विपक्ष को मोदी और हिंदुत्ववादी संगठन नहीं चाहिए तो फिर कौन चाहिए? विपक्ष आरोप-प्रत्यारोप लगा रहे हैं लेकिन वोट मांगने के लिए इनके पास कोई मुद्दा नहीं है। महायुति की सरकार से पहले की आघाड़ी सरकार सिर्फ भ्रष्टाचार की खबरों को लेकर सुर्खियों में रहती थी। जबकि महायुति सरकार के कार्यकाल में सिर्फ विकास पर ही चर्चा होती है। कांग्रेस-राकांपा के घोषणापत्र का पंचनामा करते हुए उद्धव ठाकरे ने कहा कि जनता को महायुति का संकल्पपत्र और आघाड़ी के घोषणापत्र पर गौर करना चाहिए। इनके घोषणापत्र में इन्होंने कश्मीर में धारा ३७० बनाए रखने और देशद्रोह की धारा रद्द कर देने की बात कही है। इनके इस घोषणापत्र से देश के प्रति इनकी सोच कितनी घातक है, ये समझना चाहिए। उन्होंने मतदाताओं से कहा कि जिस तरह यह देश हमारा है, वैसे ही तुम्हारा भी है। देशद्रोह की धारा रद्द करनेवालों के हाथ में क्या तुम देश की सत्ता सौंपोगे? ऐसा सवाल करते हुए उन्होंने कहा कि इस देश के साथ जो भी देशद्रोह करेगा, उसे माफ नहीं किया जाएगा बल्कि उसे फांसी पर लटका दिया जाएगा। राहुल गांधी ने हाल ही में गरीबों को हर साल ७२ हजार रुपए देने की घोषणा की है। इस घोषणा की खबर लेते हुए उन्होंने जनता से आह्वान किया कि वे इस तरह के जुमलों में न आएं। लोगों को भाए ऐसा प्रचार किया जा रहा है। इस दौरान उन्होंने पालकमंत्री एकनाथ शिंदे और शिवसेना सांसद श्रीकांत शिंदे द्वारा कल्याण में किए गए विकास कार्यों की सराहना की। नए होने के बावजूद शिंदे अपने कार्यों के बल पर देश के चौदहवें और राज्य के पांचवे सांसद के रूप में जाने जाते हैं। श्रीकांत शिंदे को आशीर्वाद देने और जनता से आशीर्वाद लेने के लिए मैं यहां आया हूं। शिवसेना के विकास कार्यों को देखकर अब विपक्ष को मिर्गी आने लगी है। उन्होंने कहा कि मैं जहां-जहां प्रचार के लिए जा रहा हूं, वहां-वहां भगवा और जीत की लहर दिखाई दे रही है।
इस अवसर पर महापौर विनीता राणे, पालक मंत्री एकनाथ शिंदे, राज्यमंत्री रवींद्र चव्हाण, विधायक सुभाष भोईर, बालाजी किणीकर, गणपत गायकवाड, कुमार आयलानी, जगन्नाथ पाटिल, नगरसेवक नवीन गवली, महेश गायकवाड, नीलेश शिंदे, मल्लेश शेट्टी, समेल श्रेयस, मनोज रॉय, हर्षवर्धन पालांडे, प्रशांत काले, राजेंद्र देवलेकर, रमेश जाधव, दीपेश म्हात्रे, युवा सेना के सजंय मोरे, शीतल मंधारी, माधुरी काले, संगीता गायकवाड, महादेव रायबोले, विनीत पांडेय, विजय मिश्रा, विनोद मिश्रा, सी.पी. मिश्रा, देवेंद्र सिंह, आशीष सिंह, गुलाब दुबे, शरद पाटिल, संदीप सिंह, प्रेम शुक्ला, सुनिल चौधरी, सर्वेश उपाध्याय, राजेश मोरे, अण्णा रोकड़े आदि उपस्थित थे।