मैंगो सुट्टा! युवाओं में नशे का नया नश्तर

सूचना एवं तकनीक के हाई टेक युग में लोगों के खाने-पीने के अंदाज में भी बदलाव आया है। ग्राहकों को आकर्षित करने के लिए नए-नए फ्लेवर, कलेवर एवं रूप-रंग में खाद्य पदार्थों को परोसने का चलन तेजी से बढ़ रहा है। ऐसे में नशे के सौदागर भला पीछे कैसे रह सकते हैं। अपना व्यवसाय बढ़ाने तथा नए एवं हाई-फाई ग्राहकों को आकर्षित करने के लिए ड्रग्स तस्कर नए-नए स्वरूप और फ्लेवर में नशीले पदार्थ पेश कर रहे हैं। इसका ताजा उदाहरण मैंगो फ्लेवर युक्त गांजे के रूप में सामने आया है। इस तरह  गांजे का सुट्टा मैंगो का मजा देने लगा है।
हाल ही में मैंगो फ्लेवर वाले गांजे की एक खेप पुलिस ने पकड़ी है। एक तरह की जंगली घास जैसा नजर आनेवाला गांजे का यह नया फ्लेवर मुंबई में पहली बार पकड़ा गया है। मुंबई पुलिस क्राइम ब्रांच की एंटी नार्कोटिक्स सेल (एएनसी) वर्ली यूनिट ने ड्रग्स तस्करों द्वारा ईजाद किए गए एक नए किस्म के गांजे का पर्दाफाश किया है। ओडिशा से मुंबई में लाई गई ड्रग्स की इस नई किस्म से पुलिस भी हैरान है, वहीं इस बारे में यह भी कहा जा रहा है कि मैंगो के फ्लेवर वाला यह गांजा तस्करी के जरिए विदेशों से आता है। बता दें कि मुंबई के युवाओं व बॉलीवुड हस्तियों में नशे का यह नश्तर तेजी से लोकप्रिय हो रहा है। आम के बौर की तरह दिखनेवाले इस गांजे में आम जैसी खूशबू आती है। बड़ी हस्तियों में तेजी से बढ़ रही इस गांजे की मांग का अनुमान इसी से लगाया जा सकता है कि मैंगो फ्लेवर वाला ५० ग्राम गांजा बाजार में में २,००० से ३,००० रुपए तक बिकता है। गौरतलब हो कि एएनसी वर्ली यूनिट ने ठाणे जिला निवासी राज बहादुर सिंह ठाकुर को लोअर परेल स्थित आईटीसी ग्रांट मराठा होटल के पास से हिरासत में लिया था। एएनसी अधिकारियों को ठाकुर के पास से तलाशी में २ किलो गांजा मिला, जो कि काली थैली में लपेट कर रखा गया था। इसकी बाजार में कीमत करीब ८० हजार रुपए आंकी गई है।