मैं खुशकिस्मत हूं – पलक जैन

यह किरदार आपको कैसे मिला?
मैं कुछ समय से विज्ञापनों, टेलीविजन धारावाहिक, वेब शो और फिल्मों के लिए ऑडिशन दे रही थी। एक दिन एक परिचित ने मुझे फोन कर मेरे पोर्टफोलियो के बारे में पूछा। उसने मुझे एक ऑडिशन के बारे में बताया, जो दिल्ली में एक नए शो के लिए हो रहा था पर समस्या यह थी कि मैं किसी कारणवश उस ऑडिशन के लिए दिल्ली नहीं जा सकी। मुझे शो की क्रिएटिव टीम की ओर से एक कॉल आया, जो मेरा ऑडिशन लेना चाहते थे। उसके बाद मैं मुंबई चली गई और इसी तरह यह किरदार मेरी झोली में आ गिरा।
रिश्तों के मायने आपके लिए क्या हैं?
मेरे लिए रिश्ते बहुत महत्वपूर्ण हैं। मेरी उम्र २५ साल है किंतु मैं आज की पीढ़ी की तरह बिल्कुल नहीं हूं। जहां तक रिश्तों की बात है तो मेरा ऐसा मानना है कि हर रिश्ता अपने आप में महत्वपूर्ण होता है और हमें उस रिश्ते को बचाए रखने के लिए समय देना अनिवार्य है। रिश्तों को सहजता नहीं बल्कि गंभीरता से लेना चाहिए तभी हम रिश्तों को सहजता से आगे तक ले जा सकते हैं। जहां तक मेरे सिंगल होने या न होने का प्रश्न है तो मैं अपनी पर्सनल लाइफ लोगों के साथ शेयर करना नहीं चाहती।
आप ऑल्ट बालाजी के वेब सीरीज में काम कर रही थीं, उसका क्या हुआ?
मेरी जिन लोगों से इस वेब सीरीज के लिए बातचीत हो रही थी, उस पर अमल नहीं हो पा रहा था इसलिए हमने आपस में बातचीत कर आगे बढ़ने का निर्णय लिया। मुझे यह शो मिल रहा था तो मैंने इसे करने की हामी भर दी। मैंने किसी भी तरह से कोई भी समझौता पत्र बालाजी के साथ नहीं किया था। यह बात मेरे और जिन लोगों के साथ मेरी बातचीत चल रही थी, बस वहीं तक सीमित रही।
यदि आपको कोई फिल्म मिले तो क्या आप उसे स्वीकारेंगी?
हम लोग दिल्ली के ग्रेटर नोएडा में शूट कर रहे हैं और १२ घंटे शूट के बाद हमें समय ही नहीं मिलता कुछ और करने का। हां, यदि अपने मोबाइल इत्यादि पे शूट करके भेजने को कोई कहे तो ऐसा मैं करने में समर्थ हूं पर यदि ऑडिशन हेतु मुझे कहीं दूसरे शहर में बुलाया जाए तो शायद मैं ऐसा न कर पाऊं। चूंकि मैंने इस शो के साथ अपनी प्रतिबद्धता स्वीकारी है सो मैं कुछ और काम हाथ में नहीं ले सकती।
यह आपका पहला शो है। आप टेलीविजन की दुनिया में सफलतापूर्वक काम कैसे कर पा रही हैं?
मैं खुशकिस्मत हूं कि मेरे साथ बेहतरीन कलाकार काम कर रहे हैं। मनीष चौधरी एवं अनुराग अरोरा से मैंने बहुत कुछ सीखा है। वे लोग मुझे अभिनय का पाठ एवं तकनीकी बहुत अच्छा सिखा रहे हैं। बेहतरीन अभिनय कर पाना इन्हीं की वजह से हो पा रहा है।
इस शो से आपने नया क्या सीखा?
मुझे यह सीख मिली कि इसमें अलग- अलग निर्देशक कई एपिसोड्स निर्देशित कर रहे हैं। इससे हमें अलग-अलग सीख और अपने अभिनय को निखारने में आसानी हो जाती है। हर निर्देशक अपने ढंग से काम करवाता है और इससे शो की वैल्यू भी बढ़ जाती है। बतौर न्यू कमर जब आपके सह कलाकार आपको नया नहीं समझते हैं तो हमारा आत्मविश्वास और भी बढ़ जाता है।