" /> मैं जिंदा हूं! पत्नी को फोन करके जवान ने बताया

मैं जिंदा हूं! पत्नी को फोन करके जवान ने बताया

-भारतीय जवान की कल मिली थी शहादत की खबर
-खबर के बाद गांव में पसरा था मातम -फोन आने के बाद छाई खुशी

भारत चीन सीमा पर गलवां घाटी में हुई हिंसक झड़प में मंगलवार शाम को बिहार के सारण जिले के जवान सुनील कुमार के शहीद होने की भी खबर मिली थी। इसकी जानकारी सेना ने ही परिवार और पुलिस अधिकारियों को दी थी। खबर मिलने के बाद दीघरा परसा गांव में उनके परिवार में मातम पसर गया। लेकिन बुधवार सुबह सुनील ने परिवारजनों को फोन करके सभी को चौंका दिया। सुनील ने पत्नी मेनका से बात की और कहा कि मैं ठीक हूं, चिंता मत करो।

बुधवार को सुनील का फोन आने के बाद मातम में डूबे परिवार को राहत मिली। सुनील ने फोन पर परिवार के सदस्यों से बात की। उन्होंने कहा कि मैं सुरक्षित हूं। दरअसल, मंगलवार शाम को पांच बजे सुनील कुमार की पत्नी मेनका राय को एक फोन आया था। उन्हें बताया गया था कि उनके पति शहीद हो गए हैं। इसके बाद परिजनों का रो-रोकर बुरा हाल हो गया था।

सुनील की पत्नी मेनका ने कहा कि मेरा सुहाग सुरक्षित है। गलत खबर आई थी। सुनील कुमार नाम के किसी और जवान की शहादत हुई थी। एक जैसा नाम होने की वजह से यह गलतफहमी हुई। मेरे पति ने मुझसे बात की है। उन्हें कुछ नहीं हुआ। मेरी जिंदगी लौट आई है। सुनील के सही सलामत होने की खबर मिलने के बाद गांव में पसरा मातम का सन्नाटा खुशी में तब्दील हो गया है।

जवान और पिता का एक ही नाम होने से हुई गलतफहमी
चीनी सैनिकों के साथ झड़प में जो जवान शहीद हुए हैं उनका नाम  सुनील राय और पिता का नाम सुखदेव राय है। जबकि सारण के जवान सुनील के पिता का नाम भी सुखदेव राय ही है। जवान और उनके पिता का एक नाम होने की वजह से गलतफहमी हुई। सुनील के चाचा रविंद्र राय ने बताया कि उन्हें मंगलवार शाम पांच बजे सेना के अधिकारी ने सूचना दी थी कि सुनील कुमार शहीद हो गए हैं। हालांकि बुधवार सुबह उनकी सुनील से बात हुई।