मैं तो फूली नहीं समाती- मौनी रॉय

छोटे पर्दे से आई मौनी रॉय ने बॉलीवुड में एक अच्छा खासा मुकाम बना लिया है। अक्षय कुमार के साथ फिल्म `गोल्ड’ में लीड रोल करनेवाली मौनी की अब लगातार ३-४ फिल्में  रिलीज होनेवाली हैं, उनमें अमिताभ बच्चन रणबीर और आलिया भट्ट के साथ `ब्रह्मास्त्र’, राजकुमार राव के साथ `मेड इन चायना’ तथा  जॉन अब्राहम के साथ `रॉ’  प्रमुख हैं। मौनी रॉय ने पूजा सामंत के साथ अपने करियर की बातें साझा की। प्रस्तुत है बातचीत के मुख्य अंश –
 २०१८ वर्ष आपके लिए कैसा रहा?
 बहुत यादगार रहा। आपने देखा होगा कि एक ही वर्ष में किस न्यू कमर को एक साथ ४ बड़ी फिल्मों की शूटिंग करने का मौका मिलता है? `ब्रह्मास्त्र’, `मेड इन चाइना’, `रॉ’ और `मोगल’।  मैं तो फूली नहीं समातीr हूं!
 आपके जीवन में जॉय यानी खुशी क्या मायने रखती है?
 इंसान गरीब हो, अमीर हो, चाहता है वो पैसा! और हम सभी को लगता है कि पैसों से जिंदगी की सारी खुशियां वो खरीद सकते हैं लेकिन बहुत पैसा होना यह जीवन में खुशियां पाने का सबब नहीं हो सकता। फिर भी दुनिया पैसे के पीछे पागल है। मुझे भी पैसे  चाहिए लेकिन मेरा जॉय मोमेंट सुकून से रिलेट करता है। मेरे पास सुकून है तो जॉय है और अगर खुशियां पानी है तो सुकून होना निहायत जरूरी है।
 फिल्म `गोल्ड’ को खास सफलता नहीं मिली। क्या असर हुआ आपके करियर पर?
यह किसने कहा कि फिल्म `गोल्ड’ को सफलता नहीं मिली? यह एक बायोपिक कैटेगरीवाली फिल्म थी और इस श्रेणी की फिल्म को जितनी सफलता मिलनी थी उससे अधिक मिल गई। अक्षय के परफॉमेंस को सभी ने सराहा।
 `ब्रह्मास्त्र’ में निगेटिव किरदार में हैं। क्या करियर के लिए यह रिस्क नहीं है?
 हां, यह सच है कि फिम `ब्रह्मास्त्र’ में मैं विलेन हूं लेकिन मैं मीडिया से कहना चाहती हूं अमूमन हर दूसरी हिंदी फिल्म में कोई न कोई विलेन जरूर होता है। बिना विलेन की कहानी यानी बिना नमक के भोजन। जिस खाने में नमक ही न हो उस खाने में स्वाद वैâसे आएगा? मैं वाकई खुश हूं कि `ब्रह्मास्त्र’ की मैं एक मात्र विलेन हूं।
 `ब्रहास्त्र’ में आपके सामने अमिताभ बच्चन, आलिया भट्ट और रणबीर कपूर हैं?
जैसा मैंने बताया कि `ब्रह्मास्त्र’ की मैं एक मात्र विलेन हूं और अपनी विलेनगीरी मैंने किस पर दिखायी है? यह बताना सीक्रेट है लेकिन मैं इतना दावे के साथ कह सकती हूं कि अब मैं चैन के साथ आंखें बंद कर सकती हूं। मेरा मतलब है कि मैं राहत के साथ मरने के लिए तैयार हूं क्योंकि मेरे करियर के आरंभ में ही मुझे महानायक अमिताभ बच्चन के साथ स्क्रीन शेयर करने का सुनहरा मौका मिला।
 लेकिन अमिताभ के साथ स्क्रीन शेयर करने का कोई स्ट्रैस नहीं रहा आप पर?
 अमिताभ बॉलीवुड में अभिनय के शहंशाह हैं यह कहने की जरुरत नहीं लेकिन वे इतने सुलझे हुए होंगे यह मैंने कभी नहीं सोचा था। उनके साथ शॉट देते वक्त मैं इतनी डरी हुई थी कि मैं सीन और शॉट पर कॉन्सेंट्रेट नहीं कर पा रही थी। महानायक ने मेरी स्थिति भांप ली और मुझे समझाते हुए कहा कि इस समय मौनी आप यह भूल जाएं कि आपके सामने कौन है? बस यह फोकस करें कि आपको आपका बेस्ट शॉट देना है।