मैं बार-बार अयोध्या आऊंगा!-उद्धव ठाकरे

शिवसेनापक्षप्रमुख उद्धव ठाकरे कल एक बार फिर भगवान राम की नगरी अयोध्या पहुंचे। यहां उन्होंने लोकसभा के अपने नवनिर्वाचित १८ सांसदों के साथ राम जन्मभूमि जाकर रामलला के दर्शन किए। इस दौरान पूरी अयोध्या नगरी भगवामय हो उठी थी। ७ महीने में उद्धव ठाकरे कल दूसरी बार अयोध्या आए थे। रामलला के दर्शन करने के बाद उद्धव ठाकरे ने कहा कि मैं बार-बार अयोध्या आऊंगा। दर्शन के बाद उन्होंने वहां मौजूद मीडिया से बातचीत भी की।
कल सुबह पैâजाबाद एयरपोर्ट पर उद्धव ठाकरे का विमान उतरा। इस दौरान शिवसेना नेता व युवासेना प्रमुख आदित्य ठाकरे भी साथ थे। वहां एयरपोर्ट पर उद्धव ठाकरे का भव्य स्वागत हुआ। वहां से कड़ी सुरक्षा के बीच उनका काफिला रामलला के दर्शन के लिए निकला। उनकी एक झलक पाने के लिए शिवसैनिकों व अयोध्यावासियों की रास्ते भर सड़क किनारे भीड़ लगी हुई थी। पूरी अवध नगरी कल ‘जय श्रीराम’ के नारों से गूंज रही थी। रामलला के दर्शन करने के बाद उद्धव ठाकरे ने पत्रकारों से बातचीत करते हुए कहा कि मैंने नवंबर में ही वचन दिया था कि मैं अयोध्या फिर आऊंगा। उन्होंने कहा कि मैंने अयोध्या आकर अपने वचन की पूर्ति की है। अयोध्या ऐसी जगह है जहां बार-बार आने को मन करता है। कल से नई लोकसभा का सत्र शुरू हो रहा है। इस बारे में उद्धव ठाकरे ने कहा कि सदन में जाने से पहले शिवसेना के सभी सांसदों ने रामलला के दर्शन किए हैं। कुछ लोगों को लगा था कि शिवसेना के लिए मंदिर चुनावी मुद्दा है। पिछले वर्ष जब मैं नवंबर में राम जन्मभूमि पर विराजमान रामलला का दर्शन करने आया था तो उस समय हमने नारा दिया था कि ‘पहले मंदिर फिर सरकार’। चुनाव बाद हमने अपने सांसदों के साथ रामलला का दर्शन करके अपनी वचनपूर्ति की है। उस समय कुछ लोगों को लगता था कि हम दोबारा अयोध्या नहीं आएंगे। हमारे अयोध्या आने के बाद यह मुद्दा पूरे देश में गर्म हो गया। अब गति आने लगी है। अयोध्या में राम मंदिर बनेगा ही, बनेगा ही, बन कर रहेगा। एक प्रश्न के उत्तर में उन्होंने कहा कि पिछले कई सालों से अयोध्या का मामला अदालत में है। चर्चा शुरू हो चुकी है। अब केंद्र में पिछली बार से ज्यादा मजबूत सरकार आई है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी में हिम्मत भी है, अच्छी सरकार बन गई है। यह सरकार अगर राम मंदिर के निर्माण का निर्णय लेती है तो हम उसके साथ हैं, विश्व का पूरा हिंदू इस निर्णय के साथ है। उन्होंने कहा कि जरूरत पड़ी तो शिवसेना आगे बढ़कर मंदिर निर्माण करेगी। जैसे विवादित ढांचा ढहाया था वैसे ही मंदिर बना भी देंगे, लेकिन हमारा कहना यही है कानून बनाओ, मंदिर बनाओ।
एनडीए की प्रमुख घटक भाजपा के बारे में उन्होंने कहा कि भाजपा व शिवसेना दोनों हिंदुत्व की बात करती हैं। देश में अच्छी बहुमत से सरकार बनी है। जनता की भावनाओं का भाजपा सरकार को आदर करना चाहिए। शिवसेना के देशभर में चुनाव लड़ने के मुद्दे पर उन्होंने कहा कि महाराष्ट्र के बाहर हम चुनाव इसलिए नहीं लड़ते ताकि देश में हिंदू मतों का विभाजन न हो। पत्रकारों से बातचीत के बाद शिवसेनापक्षप्रमुख उद्धव ठाकरे पुन: मुंबई लौट गए।
उद्धव ठाकरे की वचनपूर्ति से गदगद हुई अयोध्या
शिवसेनापक्षप्रमुख उद्धव ठाकरे की अयोध्या यात्रा से कल पूरी अयोध्या भगवामय दिख रही थी। हाथों में भगवा झंडे लिए लोग ‘जय श्रीराम’ के नारे लगा रहे थे। उद्धव ठाकरे की ७ महीने में दूसरी अयोध्या यात्रा से यहां के संत-महंत व निवासियों में प्रसन्नता छा गई है। उद्धव ठाकरे ने गत नवंबर में कहा था कि मैं फिर अयोध्या आऊंगा। उन्होंने अपने वचन की पूर्ति की और कल अयोध्या आकर रामलला के पुन: दर्शन किए, जिससे अयोध्या गदगद नजर आई।
राम जन्मभूमि पर विराजमान रामलला के मुख्य पुजारी आचार्य सत्येंद्र दास ने कहा कि अगर सार्वजनिक जीवन में वचन निभाना सीखना हो तो उद्धवजी से सीखें। वे नवंबर में जब रामलला का दर्शन करने आए थे तो कहा था कि फिर आऊंगा और अब १६ जून को वे अपने नवनिर्वाचित सांसदों के साथ राम जन्मभूमि पर भगवान रामलला का दर्शन करने आए। उन्होंने कहा कि इन यात्राओं और उपक्रमों का महत्व बहुत लोगों को नहीं मालूम होगा लेकिन जिस दिन राम जन्मभूमि पर भगवान रामलला का भव्य मंदिर बन जाएगा, उस दिन यह सब उपक्रम सार्थक माने जाएंगे।
स्थानीय समाजसेवी व अध्यापिका अर्चना सिंह ने कहा कि शिवसेना के प्रयास के बाद राम मंदिर बनने का संयोग निकट आने लगा है। जब से उद्धवजी ने राम मंदिर को लेकर पहल की तब से राम मंदिर बनने का विश्वास बढ़ा है। उनके अयोध्या आने से हम लोगों में भी उत्साह बढ़ा है। चिकित्सक डॉ. विभोर श्रीवास्तव ने कहा कि ७ माह पहले जब शिवसेना का अयोध्या कार्यक्रम हुआ था तो पहले तरह-तरह की बातें हुर्इं लेकिन जब उद्धवजी का कार्यक्रम हो गया तो शिवसेना ने अयोध्या के लोगों का मन मोह लिया। उन्होंने कहा मेरी दृष्टि में शिवसेना अन्य राजनैतिक संगठनों से बहुत अलग है। रविवार को शिवसेनापक्षप्रमुख उद्धव ठाकरे अयोध्या आए सुखद लगा। शिवसेना के कार्यक्रम और महंत नृत्य गोपाल दास के जन्मोत्सव कार्यक्रम के कारण अयोध्या में लगातार वीवीआईपी मूवमेंट था। अयोध्या का चप्पा-चप्पा खुफिया और पुलिस फोर्स की निगरानी में रहा। यूपी सरकार ने उद्धव ठाकरे को राज्य अतिथि घोषित कर रखा था और इसलिए उन्हें जेड प्लस श्रेणी की सुरक्षा मुहैया कराई गई थी।