" /> मैं भी खूब लड़ी!

मैं भी खूब लड़ी!

एक्ट्रेस शर्लिन चोपड़ा ने अपनी निजी जिंदगी को लेकर चौंकाने वाला खुलासा किया है। शर्लिन ने बताया कि कई साल पहले वह भी डिप्रेशन का शिकार हो चुकी हैं। उन्होंने डिप्रेशन से लड़ने और उससे बाहर निकलने की अपनी कहानी को साझा किया है। शर्लिन ने कहा, ‘साल २००५ की शुरुआत में, मेरे पापा, जो एक डॉक्टर थे, उनकी मृत्यु कार्डियक अटैक से हुई थी। जिस वक्त मैंने अपने पापा को खोया, उस दौरान मैं कॉलेज में थी। मुझे नहीं पता था कि माता-पिता के बिना कैसे रहना है।’ शर्लिन ने आगे कहा, ‘सालों बाद मैंने महसूस किया है कि किसी व्यक्ति में आत्म-मूल्य और आत्म-प्रेम की भावना किसी बाहरी कारणों से नहीं पैदा होती है, बल्कि हम खुद के साथ बात करके इसे पा सकते है। धीरे-धीरे मैं खुद के प्रति दयालु हुई और खुद से प्यार करना शुरू किया। मैंने महसूस किया है कि दुनिया में बुरे लोग है, लेकिन ये बुरी जगह नहीं है, बल्कि एक दिलचस्प जगह है।’ शर्लिन आगे कहती हैं, ‘मैंने दो साल पहले धूम्रपान छोड़कर, हर दिन वर्कआउट करने का फैसला लिया और जीवन में स्वस्थ रहना शुरू कर दिया। जैसा मैं महसूस करना चाहती हूं और मजबूत दिखना चाहती हूं।’