मैदान में मैच, कमरे में सट्टा, ५ सट्टेबाज धराए

खेल हो, मौसम हो या फिर चुनाव हो। सट्टेबाज सट्टा लगाने का कोई मौका नहीं छोड़ते हैं और जब बात क्रिकेट मैचों की हो तो हजारों करोड़ रुपए दांव पर लगना आम बात है। मैच शुरू होने से पहले ही पहली गेंद से आखिरी गेंद तक हर बल्लेबाज, गेंदबाज और क्षेत्र रक्षकों तक पर सट्टा लगने लगता है यानी मैदान में मैच और बंद कमरे में सट्टेबाजी का खेल खेला जाता है।

मुंबई सहित दुनियाभर में इस समय आईपीएल २०१९ की धूम मची है। इस दौरान अलग-अलग इलाकों में सक्रिय ऐसे ही कुछ अंतरराष्ट्रीय सट्टेबाज सट्टेबाजी के समंदर में डुबकी लगाने का प्रयास कर रहे हैं। राजस्थान और पंजाब के बीच जयपुर में खेले गए मैच पर सट्टेबाजी लगवाने के दौरान मुंबई पुलिस क्राइम ब्रांच की यूनिट-११ ने ५ सट्टेबाजों को गिरफ्तार किया है।

बता दें कि यूनिट-११ के वरिष्ठ पुलिस निरीक्षक चिमाजी अढाव को कांदिवली-पश्चिम स्थित चारकोप इलाके में सक्रिय अंतर्राष्ट्रीय सट्टेबाजों के बारे में सूचना मिली थी। डीसीपी अकबर पठान के मार्गदर्शन में पीआई आनंद रावराणे, रईस शेख, एपीआई नीतिन उतेकर और शरद झीने की टीम ने कांदिवली-पश्चिम स्थित ऑस्कर अस्पताल के पास एक निवासी इमारत में छापेमारी की। वहां अब्दुल कादिर गफ्फार छुटानी, मिलिंद रमेश सोनी, यूसुफ मोहम्मद सुमरा, रोनी नवनीत रायचुरा तथा मनोज सूर्यकांत लोटलीकर नामक ५ आरोपी फोन पर सत्ता लगवाते मिले। ये सट्टेबाज ्ग्aस्दर्हेम्प्९.म्दस् aल्r ज्त्aब्ैग्ह२४७.म्दस् इस आईडी वाली वेबसाइट और मोबाइल ऐप पर भी सट्टा स्वीकार कर रहे थे। सट्टेबाज सांकेतिक भाषा में दांव लगा रहे थे। पुलिस टीम ने २६ मोबाइल फोन, एक टीवी, एक लैपटॉप, एक सेट टॉप बॉक्स, दो वाईफाई राउटर, ६ कार्ड स्वेपिंग यूनिट, दो डोंगल, ३ पेन ड्राइव, एक नोट गिनने की मशीन तथा ९१,७०० रुपए बरामद किए हैं। सट्टेबाज किसी ए.के. कोड नाम वाले मुख्य सट्टेबाज के लिए सट्टा स्वीकार कर रहे थे तथा मुंबई के अलावा दिल्ली, राजकोट और कुछ विदेशी बुकियों के भी संपर्क में थे।