मॉनसून में ‘क्राउड कंट्रोल’, रेलवे ने कसी कमर

मॉनसून के समय अधिक बारिश होते देख पानी से बचने के लिए यात्री रेलवे स्टेशनों पर रुक जाते हैं। इस दौरान स्टेशनों पर यात्रियों की भीड़ बढ़ जाती है। मुंबई जैसे भीड़-भाड़वाले शहर में एलफिंस्टन पुल हादसे जैसी घटना की पुनरावृत्ति न हो इसलिए रेलवे ने मॉनसून के दौरान क्राउड कंट्रोल करने के लिए कमर कस ली है। भीड़-भाड़वाले स्टेशन पर क्राउड कंट्रोल करने के लिए मध्य रेलवे ने १३ स्टेशन और पश्चिम रेलवे ने १० स्टेशनों को चिह्नित किया है।
आरपीएफ ने जवानों को विशेष ट्रेनिंग देने की तैयारी शुरू कर दी है। अधिकारियों के अनुसार पश्चिम रेलवे ने अपने १० प्रमुख रेलवे स्टेशनों के ३३ पुलों को चिह्नित किया है। इन पुलों पर होनेवाली भीड़ को कंट्रोल करने के लिए महाराष्ट्र सुरक्षा फोर्स (एमएसएफ) और रेलवे सुरक्षा बल (आरपीएफ) के ७०० लोगों को तैनात किया जाएगा, वहीं मध्य रेलवे ने अपने १३ प्रमुख स्टेशनों पर ८०१ जवानों को तैनात करने की योजना बनाई है। इनमें से एमएसएफ के २५१ और आरपीएफ के ५५० जवान और अधिकारी तैनात किए जाएंगे। गौरतलब है कि बारिश के समय तेज बारिश होने पर बड़े पैमाने पर लोग पुलों पर और रेलवे स्टेशनों पर रुक जाते हैं, इससे स्टेशनों पर भारी भीड़ जमा हो जाती है। योजना के मुताबिक जवान पुलों पर लोगों की भीड़ को नियंत्रित करेंगे।
पश्चिम रेलवे के विभागीय वरिष्ठ मंडल रेल सुरक्षा आयुक्त एसआर गांधी का कहना है कि हमने भीड़-भाड़वाले स्टेशनों की लिस्ट बनाई है। बारिश में भीड़ को नियंत्रित करने के लिए हर स्टेशनों पर भीड़ के हिसाब से जवान तैनात करने की योजना बनाई है। वहीं मध्य रेलवे के रेल मंडल सुरक्षा आयुक्त अरुण कुमार ने कहा कि हम इसके लिए एनजीओ से भी बात कर रहे हैं। हम विशेष ट्रेनिंग लेंगे और डिजास्टर टीम से अनुरोध करेंगे कि एलर्ट आने पर वे अपनी टीम को स्टेशनों के करीब रखें।
इन स्टेशनों पर होगा क्राउड कंट्रोल
 पश्चिम रेलवे : बांद्रा, दादर, अंधेरी, जोगेश्वरी, बोरीवली, भाइंदर, सांताक्रुज, मालाड, वसई रोड और विरार।
 मध्य रेलवे : मस्जिद बंदर, चिंचपोकली, करी रोड, परेल, दादर, कुर्ला, घाटकोपर, ठाणे, डोंबिवली, कल्याण, टिटवाला, अंबरनाथ और बदलापुर।