मॉल की कमाई करेगी  मेट्रो का किराया कम, एमएमआरडीए का अनोखा उपक्रम

कासारवडवली-वडाला मेट्रो ४ परियोजना का कार्य प्रगति पथ पर है। मेट्रो ४ के स्टेशनों को ठाणे और मुंबई के मॉलों से जोड़ा जाएगा। ऐसे में मेट्रो का सफर तय कर मॉलों से गुजरनेवाले यात्रियों को सहूलियत तो मिलेगी ही साथ ही मॉल से कनेक्ट होने का फायदा भी सरकार को होगा। दरअसल जहां-जहां मेट्रो लाइन मॉल से कनेक्ट होगी, वहां के मॉल में होनेवाली कमाई का कुछ हिस्सा सरकार को मिलेगा। मॉल से मिले हुए पैसों का सरकार मेट्रो के किराए को कम करने में इस्तेमाल करेगी। ऐसे में यह साफ हो रहा है कि जितना अधिक मॉल की कमाई होगी, उतना ही कम मेट्रो का किराया होगा।
बता दें कि वडाला-कासारवडवली मेट्रो ४ में मुंबई और ठाणे में कुल ३० स्टेशन हैं जिसमें से १३ स्टेशन ठाणे में और १७ स्टेशन मुंबई में मौजूद हैं। मेट्रो ४ परियोजना के डीपीआर के आधार पर मेट्रो को मॉलों से कनेक्ट करने में प्राथमिकता दी गई है। जिसमें मानपाड़ा के आर मॉल, विविना मॉल, कोरम मॉल, इटर्निटी मॉल, आर मॉल मुलुंड, निर्मल लाइफस्टाइल मुलुंड, मैग्नेट मॉल मुलुंड और ड्रीम्स मॉल का समावेश है। मेट्रो ४ के ३० स्टेशनों में से कुल ८ स्टेशनों को मॉल से जोड़ा जाएगा। जब इस संदर्भ में एमएमआरडीए के प्रवक्ता दिलीप कवटकर से बात की गई तो उन्होंने बताया कि मेट्रो के मॉल से जुड़ने से यात्रियों को खरीददारी करने में आसानी होगी साथ ही इससे मॉल को भी कुछ हद तक फायदा होगा। मॉल को होनेवाले फायदे में से कुछ हिस्सा मॉल द्वारा एमएमआरडीए को दिया जाएगा और एमएमआरडीए उस हिस्से का इस्तेमाल कर मेट्रो के किराए को कम करने और अन्य सुविधाओं को बेहतर बनाने में करेगी।