मोदी प्रधानमंत्री हैं या प्रचारमंत्री?

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को देश की जनता की कोई फिक्र नहीं है। मोदी अधिकाधिक समय विदेश में रहते हैं। केवल चुनाव के समय प्रचार के लिए देश में फिरते हैं। इससे लगता है कि मोदी प्रधान मंत्री नहीं, प्रचार मंत्री हैं। यह बात कांग्रेस के वरिष्ठ नेता गुलाब नबी आजाद ने पुणे के राज्यव्यापी जनसंघर्ष यात्रा में आयोजित कार्यक्रम में कही। मोदी केवल दो-तीन लोगों के लिए देश चला रहे हैं। देश में तानाशाही शुरू है। अंग्रेजों ने लाठी-डंडे-गोली का उपयोग कर सत्ता कायम रखने का प्रयत्न किया था। भाजपा इनकम टैक्स, सीबीआई और ईडी का दुरुपयोग करके सत्ता रखने का प्रयत्न कर रही है। देश में लोकतंत्र को खतरा उत्पन्न हो गया है। लोकतंत्र बचाने के लिए कांग्रेस कोई भी त्याग करने को तैयार है। इस मौके पर लोकसभा विरोधी दल के नेता मल्लिकार्जुन खड़गे ने कहा कि मोदी ने झूठ बोलकर सत्ता हासिल किया और झूठ बोलकर देश का बंटाधार कर रहे हैं। ऐसी सरकार को सत्ता से नहीं खींचा गया तो और बुरे दिन आएंगे। यह सरकार संविधान, लोकतंत्र, सामाजिक न्याय को खत्म करने का प्रयास कर रही है। कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष अशोक चव्हाण ने कहा कि पहले चरण में जनसंघर्ष यात्रा ने १२०० किमी का प्रवास किया। उन्होंने कहा कि देश को नरेंद्र-देवेंद्र का झूठा भाषण नहीं चाहिए। लोगों को भूख मिटाने के लिए अनाज चाहिए। राज्य व देश की जनता त्रस्त है। आम जनता में असंतोष है। परिवर्तन होना तय है।