मोदी भक्ति के कारण सस्पेंड हुए 4 रेलवे अधिकारी, मामला रेल टिकट पर मोदी की तस्वीर छापने की

लोकसभा चुनाव में प्रचार को लेकर चुनाव आयोग लगातार सख्त होता जा रहा है। सोमवार को कई नेताओं के प्रचार पर बैन लगाने के बाद आयोग की सख्ती का असर दिखा है। ट्रेन के टिकटों पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की तस्वीर चस्पा करने पर रेलवे ने अपने ४ कर्मचारियों को निलंबित कर दिया है। आयोग ने इस तस्वीर को लेकर रेलवे विभाग को नोटिस जारी किया था।

सोमवार को ही सुप्रीम कोर्ट ने चुनाव आयोग को सख्त कार्रवाई ना करने पर फटकार लगाई थी। जिसके बाद सबसे पहले आयोग ने नेताओं के प्रचार पर बैन लगाया, तो अब अन्य क्षेत्रों में भी असर दिख रहा है।

रेल मंत्रालय के सूत्रों की मानें तो गंगा सतलज एक्सप्रेस (१३३०८) के थर्ड एसी में टिकट पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की तस्वीर लगी हुई थी। ये ट्रेन बाराबंकी से वाराणसी के लिए जा रही थी। इस पर बाद में बवाल हुआ था और चुनाव आयोग में शिकायत दर्ज कराई गई थी।

जिसके बाद चुनाव आयोग ने रेलवे को नोटिस भेजा और अब रेलवे ने अपने कर्मचारियों पर कार्रवाई करते हुए ४ को सस्पेंड कर दिया है। रेलवे टिकट पर प्रधानमंत्री आवास योजना (ग्रामीण) सबके लिए आवास का विज्ञापन छपा था।

टिकट के पीछे पीएम नरेंद्र मोदी का फोटो भी छपा था, इसको लेकर एक व्यक्ति ने ट्वीट कर दिया था। जिसपर विवाद हुआ था। निर्वाचन अधिकारी ने केंद्रीय चुनाव आयोग को बताया है कि रेलवे ने चारों ही रेल कर्मियों को सस्पेंड कर दिया है, इसके साथ ही रेलवे बोर्ड ने पुराने टिकट रोल का इस्तेमाल करने पर भी रोक लगा दी है।

आपको बता दें कि इससे पहले भी रेलवे में चुनावी प्रचार पर विवाद हो चुका था। रेलवे टिकट पर पीएम मोदी की तस्वीर के अलावा ‘मैं भी चौकीदार’ छपे कप में चाय बांटी जा रही थी। जिसको लेकर चुनाव आयोग में शिकायत की गई थी और बाद में कप हटा लिए गए थे।

गलत बयानबाजी के लिए चुनाव आयोग ने सोमवार को ही यूपी सीएम योगी आदित्यनाथ, बसपा प्रमुख मायावती, केंद्रीय मंत्री मेनका गांधी और सपा नेता आजम खान के प्रचार पर निश्चित समय के लिए बैन लगाया था।