मोदी सरकार पर संघ का सोंटा!, बिना युद्ध के मर रहे हैं जवान- भागवत

मोदी सरकार पर इन दिनों राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ सोंटा चलाने का कोई मौका नहीं छोड़ रहा है। चाहे वह राम मंदिर का मुद्दा हो, सीमा पर शहीद जवानों का मुद्दा हो या देश की आर्थिक स्थिति का मामला हो। मोदी सरकार पर प्रहार करते हुए संघ के प्रमुख मोहन भागवत ने कल कहा कि देश में युद्ध नहीं चल रहा है फिर भी सीमा पर जवान मर रहे हैं। इसको रोकने के लिए देश के प्रत्येक व्यक्ति को भारी परिश्रम करना होगा।
संघ प्रमुख ने कहा कि स्वतंत्रता पाने के लिए देश के लोगों को बलिदान देने का समय था। स्वतंत्रता के बाद युद्ध के समय जवानों को प्राण की आहूति देनी पड़ी थी। अपना काम व्यवस्थित तरीके से न करने की वजह से ऐसी घटनाएं घट रही हैं, ऐसा कह भागवत ने सरकार को कटघरे में खड़ा कर दिया। भागवत ने कहा कि हिंदुस्थान सहित इजराइल और जापान एक साथ स्वतंत्र हुए। इस ७० वर्षों में उक्त दोनों देशों ने प्रगति की और आर्थिक रूप से संपन्न हुए परंतु हिंदुस्थान में वैसा विकास नहीं हुआ। भागवत के उक्त सवाल से मोदी सरकार के दावों पर प्रश्न चिह्न लग गया है। केंद्रीय गृह मंत्रालय के आंकड़े के अनुसार मोदी सरकार के २०१४ से २०१७ के दरम्यान ८१२ आतंकवादी हमले हुए हैं जिसमें १८३ जवान शहीद हुए और ६२ नागरिकों की मौत हुई है।