मोनो को मिलेगा २ का दम,  २२ से घटकर १५ मिनट हो जाएगी   फ्रिक्वेंसी

मुंबई में देश की पहली मोनो रेल कॉरिडोर की फुल सर्विस शुरू हो गई है। मोनो के ३ रेक की बदौलत चेंबूर से संत गाडगे महाराज चौक तक मोनो रेल का परिचालन शुरू हो चुका है लेकिन अब जल्द ही मोनो को २ का दम मिलनेवाला है। जी हां, अप्रैल में मोनो के बेड़े में २ रेक आ रहे हैं। इन रेकों के आने से मोनो रेल की प्रâीक्वेंसी २२ मिनट से घटकर १५ मिनट हो जाएगी।
एमएमआरडीए के अधिकारियों से प्राप्त जानकारी के अनुसार मोनो रेल को अप्रैल तक २ रेक मिल जाएंगे। माना जा रहा है कि पहला रेक मार्च में और दूसरा रेक अप्रैल में मुंबई पहुंच जाएगा। अधिकारी ने बताया कि शनिवार को मोनो रेल के १० रेक का टेंडर भी जारी किया गया है। टेंडर प्रक्रिया पूरी होने में लगभग ३ महीने का समय लग जाएगा। उनके बाद ९ महीने में रेक मिलने शुरू हो जाएंगे।
एमएमआरडीए कमिश्नर आरए राजीव ने बताया कि हम एक रेक इसी महीने के अंत तक सेवा में ले आएंगे। अगला रेक अप्रैल में आएगा। उसे वैसे ही रखा जाएगा ताकि कोई रेक खराब होने पर उसकी जगह ले सकें। दो रेक सेवा में शामिल होने पर मोनो रेल की प्रâीक्वेंसी प्रति सर्विस १५ मिनट हो जाएगी। फिलहाल एमएमआरडीए के पास कुल ४ रेक हैं, जिनमें से ३ रेक सेवा में हैं जबकि एक रेक को इमरजेंसी के लिए रखा गया है। १० रेक में से पहले चरण के तहत आए ५ रेक का ट्रायल देखा जाएगा, उसके बाद अतिरिक्त ५ रेक खरीदने का निर्णय लिया जाएगा। एमएमआरडीए ने लगभग ५०० करोड़ का टेंडर मोनो रेक के लिए जारी किया है। बता दें कि मंगलवार को मोनो रेल से शाम साढ़े पांच बजे तक १४,७६७ लोगों ने सफर किया था जबकि सोमवार को पहले दिन १६,११० लोगों ने सफर किया। पहले दिन के मुकाबले दूसरे दिन शाम साढ़े पांच बजे तक सफर करनेवाले यात्रियों का ग्राफ गिरा दिखाई दिया।