" /> मोहर्रम को लेकर वाराणसी के थाना क्षेत्रों में शांति समिति की बैठक

मोहर्रम को लेकर वाराणसी के थाना क्षेत्रों में शांति समिति की बैठक

इस बार मोहर्रम पर ताजिया और जुलूस नजर नहीं आएंगे। कोरोना वायरस संक्रमण के खतरे को देखते हुए जुलूस न निकालने की अपील ताजियादारों से की जा रही है।
कोरोना के बढ़ते प्रकोप के कारण जिला प्रसासन ने सामूहिक रूप से होने वाले आयोजनों पर रोक लगा रखी है। ईद, बकरीद, कांवड़ यात्रा, शिवरात्रि समेत तमाम पर्व व त्योहार प्रतिबंधों के बीच ही निकल गए। अब 29 अगस्त को मोहर्रम मनाया जाएगा। इस कोरोना के बढ़ते प्रकोप को देखते हुए ताजिया जुलूस नहीं निकाले जाएंगे। इसी को जनपद के के तमाम संवेदनशील थाना क्षेत्रों में जिला प्रशासन ने तजियादारो के साथ शांति कमेटी की आहूत कर रही है। इसी क्रम में लोहता थाना व कोटवा पुलिस चौकी पर क्षेत्राधिकारी सदर ने ताजियादारों के साथ बैठक की। इसमें क्षेत्र के ताजिया जुलूस से संबंधित कमेटी के लोग शामिल हुए। बैठक के दौरान अधिकारियों ने कोरोना वायरस बीमारी कोविड-19 को लेकर जारी गाइड लाइन की जानकारी दी। ताजियादारों से सामूहिक जुलूस, सामूहिक मातम न मनाने की अपील की गई। लोहता थानाध्यक्ष विश्वनाथ प्रताप सिंह ने कहा अगर शासन से कोई अनुमति मिलेगी तो अवगत कराया जाएगा , साथ ही उपस्थित लोगों से गाइड लाइन का पालन करने हेतु अपील किया गया। बैठक में ताजियादारो के साथ ही मुस्लिम धर्मगुरु भी शामिल हुए।