" /> मौलाना साद ने ही मरकज में रुकने को कहा था! 166 जमातियों का कबूलनामा

मौलाना साद ने ही मरकज में रुकने को कहा था! 166 जमातियों का कबूलनामा

दिल्ली पुलिस की क्राइम ब्रांच मौलाना साद के बेटों और रिश्तेदारों समेत कुल 166 जमातियों से पूछताछ कर चुकी हैl सूत्रों के मुताबिक ज्यादातर जमातियों ने क्राइम ब्रांच को दिए अपने बयान में माना कि 20 मार्च के बाद मरकज में रुकने के लिए मौलाना साद ने ही कहा थाl

ज्यादातर जमातियों ने क्राइम ब्रांच को बताया कि वो खुद से मरकज से निकलना चाहते थे लेकिन मौलाना साद ने उन्हें ऐसा करने से मना कर दिया थाl क्राइम ब्रांच के सूत्रों के मुताबिक मौलाना साद जानबूझ कर अपना कोविड 19 टेस्ट सरकारी अस्पताल से नहीं करवाना चाहता है, क्योंकि वो जानता है कि जैसे ही सरकारी अस्पताल से कराए हुए कोरोना टेस्ट की रिपोर्ट निगेटिव आती है तो क्राइम ब्रांच मौलाना साद को पूछताछ के लिए बुला सकती हैl

मौलाना साद को इस बात की जानकारी है कि जब तक वो अपनी कोरोना निगेटिव वाली रिपोर्ट नहीं देगा तब तक क्राइम ब्रांच मेडिकल प्रोटोकॉल के तहत चाह कर भी पूछताछ के लिए नहीं बुला सकताl इसी बात का फायदा मौलाना उठा रहा है और अपने वकीलों के जरिए मीडिया के एक वर्ग में झूठी खबरें छपवाकर अपने लिए सबूत इकट्ठा कर रहा हैl ताकि अखबार की वो कटिंग अदालत में पेश कर अपना पक्ष मजबूत कर सकेl क्राइम ब्रांच के सूत्रों के मुताबिक उनके पास काफी सारे सबूत हैं जिससे ये पता चलता है कि निजामुद्दीन के मरकज में लोगों को पुलिस द्वारा नोटिस देने के बाद भी जानबूझ कर रोका गया थाl जिसको साबित करने के लिए क्राइम ब्रांच ने 166 जमातियों के ब्यान दर्ज किए हैंl इसके अलावा क्राइम ब्रांच ने 700 विदेशी जमातियों के पासपोर्ट कैंसिल करने के लिए भी गृह मंत्रालय को लिखा हैl