यहां लहराता है, युति का परचम, दक्षिण मुंबई लोकसभा निर्वाचन क्षेत्र

लोकसभा की चुनावी गर्मी तेज हो गई है। हवा किसी भी राजनीतिक पार्टी की हो, शिवसेना के उम्मीदवार के साथ शिवड़ी, वरली, गिरगांव की जनता मजबूती से खड़ी रहती है। नागपाड़ा, कुलाबा, भायखला जैसे मुस्लिम बहुल इलाके कांग्रेस के गढ़ माने जाते रहे हैं और मलबार हिल, मुंबादेवी, कफ परेड में रहनेवाले गुजराती, मारवाड़ी समाज के लोग दक्षिण मुंबई लोकसभा निर्वाचन क्षेत्र में आते हैं। ऐसे में लोकसभा चुनाव के मतों का अंक गणित निकाला जाए तो दक्षिण मुंबई लोकसभा निर्वाचन क्षेत्र में शिवसेना-भाजपा युति का प्रत्याशी कांग्रेस महागठबंधन के प्रत्याशी को धूल चटा देगा।

कांग्रेस का बंटेगा वोट बैंक
भायखला निर्वाचन क्षेत्र कांग्रेस का परंपरागत वोट बैंक है क्योंकि यह इलाका मुस्लिम बाहुल्य है। पिछले लोकसभा चुनाव में एमआईएम ने कांग्रेस के वोट बैंक में सेंध लगा दी थी। इस बार बहुजन वंचित आघाड़ी ने एमआईएम के साथ हाथ मिलाया है। ऐसे में मुस्लिम सहित दलित वोट बैंक भी कांग्रेस के हाथ से सटकने की पूरी आशंका है। इतना ही नहीं, कांग्रेस में हो रही गुटबाजी के कारण इस बार कांग्रेस का वोट बैंक फूटने की संभावना से भी इंकार नहीं किया जा सकता है।

ये हैं शिवसेना के गढ़
माझगांव, शिवड़ी, वरली, लालबाग, परेल ये इलाके शिवसेना के गढ़ के रूप में जाने जाते हैं। यहां के मतदाता धनुष-बाण के अलावा कोई और निशानी नहीं जानते हैं। यही इतिहास भी रहा है। ऐसे में उम्मीदवार कोई भी रहे, वोट शिवसेना को ही मिलता है। इसका लोहा शिवसेना के विपक्षी दल भी मानते हैं।
नगरसेवकों की संख्या
शिवसेना – १७
भाजपा – १०
कांग्रेस – ०१
सपा – ०१
अखिल भारतीय सेना – ०१
निर्वाचन क्षेत्र के विधायक
कुलाबा – राज के पुरोहित (भाजपा)
मुंबादेवी – अमीन पटेल (कांग्रेस)
मलबार हिल – मंगल प्रभात लोढ़ा (भाजपा)
वरली – सुनील शिंदे (शिवसेना)
भायखला – वारिस पठान (एमआईएम)
शिवड़ी – अजय चौधरी (शिवसेना)

२०१४ का इतिहास
२०१४ के लोकसभा चुनाव में दक्षिण मुंबई लोकसभा निर्वाचन क्षेत्र में शिवसेना के अरविंद सावंत ने ४८ फीसदी वोट के साथ जीत हासिल की थी जबकि मनसे के बाला नांदगांवकर को १०.८७ फीसदी वोट मिले थे, वहीं दूसरे स्थान पर रहे कांग्रेस उम्मीदवार मिलिंद देवरा को ३१ प्रतिशत वोट पाकर संतुष्ट होना पड़ा था।

लोकसभा में टॉपर हैं अरविंद सावंत
दक्षिण मुंबई निर्वाचन क्षेत्र का प्रतिनिधित्व करनेवाले शिवसेना सांसद अरविंद सावंत केवल विकास कार्यों का मुद्दा ही लोकसभा में नहीं उठाते हैं बल्कि विभिन्न नागरी सुविधाओं से जुड़े मुद्दे रखनेवाले सांसद के रूप में भी लोकप्रिय हैं। लोकसभा में सभी सांसदों में टॉपर रहे हैं। इन्होंने लोकसभा में २८६ बार चर्चा में उपस्थित रहकर आम जनता से जुड़े ४७८ प्रश्नों को उठाया है। सावंत ने अपने निर्वाचन क्षेत्र में कई विकास कार्यों को अमलीजामा पहनाया है। इन्होंने मुंबई के उपनगरीय रेल यात्रियों की समस्याओं को निरंतर उठाकर उसका समाधान किया है।