यात्रा से ज्यादा मोनो के इंतजार में कट रहा है सफर

वडाला डिपो से संत गाडगे महाराज चौक तक कुछ महीने पहले एमएमआरडीए ने मोनो रेल के दूसरे चरण की शुरुआत की लेकिन मोनो रेल का यह दूसरा चरण भी सफेद हाथी ही साबित हो रहा है। इसकी वजह मोनो रेल के परिचालन में होनेवाली लेट-लतीफी है। कल मोनो रेल आधा घंटे देरी से चल रही थी, ऐसे में दूसरे चरण का सफर तय करने मे जितना समय यात्रियों को नहीं लग रहा था, उससे ज्यादा समय मोनो के इंतजार में लगता दिखा। बता दें कि कल मोनो रेल आधे घंटे देरी से चल रही थी। इसकी वजह से मोनो रेल का सफर तय करनेवाले यात्री प्लेटफॉर्म पर बगलें झांकते दिखे। वडाला डिपो से संत गाडगे महाराज चौक का सफर तय कर रहे रोहन साल्वे बे बताया कि मैं पहली बार सफर कर रहा हूं। जब टोकन निकाल कर प्लेटफॉर्म पर पहुंचा तो पता चला कि मोनो रेल आधे घंटे देरी से चल रही है। जब इस संबंध में प्लेटफॉर्म पर मौजूद विभागीय कर्मचारी से पूछा तो पता चला कि मोनो रेल में कभी- कभी तकनीकी खराबी के कारण मोनो की सेवा में विलंब होता है इसलिए ही ट्रेन देरी से चल रही है। यही कारण था कि दूसरे चरण की दूरी तय करने में जहां २० मिनट लगते हैं। वहीं मोनो रेल के इंतजार में कल यात्रियों को आधे घंटे लग गए। जानकारी के मुताबिक फिलहाल मोनो रेल के ४ रेक सेवा में शामिल हैं, जो चेंबूर से संत गाडगे महाराज चौक तक अपनी सेवा देती है।