युति का ‘महा’ डंका, कांग्रेस का ‘विसर्जन’, राकांपा की क्रैश लैंडिंग

महाराष्ट्र में आज गणपति का विसर्जन है। इस गणपति विसर्जन के साथ ही राज्य में कांग्रेस का भी ‘विसर्जन’ हो गया है, वहीं राकांपा की स्थिति यह है कि वह व्रैâश लैंडिंग का शिकार हो गई है। राकांपा के एक-एक नेता पार्टी छोड़कर जा रहे हैं। जिस प्रकार चंद्रयान-२ में विक्रम से संपर्क टूट गया है और वैज्ञानिक संपर्क स्थापित करने में जुटे हैं, उसी प्रकार राकांपा अपना अस्तित्व बचाने के लिए जूझ रही है। कांग्रेस के ‘विसर्जन’ और राकांपा की व्रैâश लैंडिंग का परिणाम यह हुआ है कि पूरे राज्य में युति का ‘महा’ डंका बज रहा है। यानी आगामी विधानसभा चुनाव में कांग्रेस-राकांपा का अस्तित्व बचेगा या नहीं? इसका भय उक्त दोनों दलों के नेताओं को सताने लगा है। कांग्रेस-राकांपा के अलावा राज्य में जो अन्य दल हैं, वे ‘अपनी डफली, अपना राग अलाप रहे हैं। लोकसभा चुनाव में वंचित बहुजन आघाड़ी व एमआईएम के बीच तो गठबंधन था, उस गठबंधन वविधानसभा चुनाव से पहले ही ‘तलाक’ हो गया है। एमआईएम ने स्पष्ट कर दिया है कि वह वंचित बहुजन आघाड़ी के साथ विधानसभा चुनाव में गठबंधन नहीं करेगी। एमआईएम ने कल तीन उम्मीदवारों का नाम भी घोषित कर दिया है। सपा अध्यक्ष अबू हासिम आजमी ने भी घोषणा की है कि राज्य विधानसभा चुनाव में सपा अकेले दम पर चुनाव लड़ेगी। कांग्रेस-राकांपा या अन्य किसी दल से सपा गठबंधन नहीं करेगी। पिछली लोकसभा चुनाव में सपा-बसपा का गठबंधन राज्य में हुआ था लेकिन उत्तर प्रदेश लोकसभा चुनाव में सपा-बसपा में ‘तलाक’ हो गया था। उसी के बाद महाराष्ट्र में भी सपा-बसपा में ‘तलाक’ हो गया है। दोनों दल अकेले दम पर चुनाव लड़ने का दावा कर रहे हैं। उक्त दलों के अलावा कई अन्य दल भी हैं, जो कांग्रेस-राकांपा के साथ चुनावी गठबंधन न करके अपने दम पर अकेले चुनाव लड़ने का दावा कर रहे हैं। उक्त परिस्थितियों को देखते हुए यह स्पष्ट दिखाई दे रहा है कि आगामी विधानसभा चुनाव में युति का ‘महा’डंका बजेगा।

भाजपा में शामिल हुए हर्षवर्धन पाटील
कांग्रेस के वरिष्ठ नेता व पूर्व मंत्री हर्षवर्धन पाटील कल कांग्रेस पार्टी को राम-राम कह भाजपा में शामिल हो गए। मुंबई के गरवारे क्लब में आयोजित एक कार्यक्रम में हर्षवर्धन पाटील मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस व प्रदेश अध्यक्ष चंद्रकांत पाटील की उपस्थिति में भाजपा में शामिल हो गए। इंदापुर विधानसभा क्षेत्र से हर्षवर्धन पाटील को टिकट देने का संकेत मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस ने दिया। पाटील ने कहा कि बिना शर्त मैं भाजपा में शामिल हुआ हूं। प्रदेश अध्यक्ष चंद्रकांत पाटील ने इस मौके पर कहा कि लोकसभा चुनाव से पहले हर्षवर्धन पाटील भाजपा में आ गए होते तो बारामती से सुप्रिया सुले लोकसभा चुनाव नहीं जीत पातीं।