यू-ट्यूब देखकर बने शातिर बाइक चोर : बनाई अपनी गैंग

दोस्त की बाइक से चोरी की शुरूआत
सात बाइक बरामद

इंटरनेट के आने के बाद से जमाना काफी हद तक हाईटेक हो चुका है। एक ओर जहां इंटरनेट का इस्तेमाल सकारात्मक चीजों में किया जा रहा है, वहीं लोग गलत काम करने के लिए भी इंटरनेट का इस्तेमाल धड़ल्ले से कर रहे हैं। ऐसा ही एक मामला पालघर जिले वसई तालुका में आया है। पुलिस ने एक गैंग के ७ आरोपियों को ७ बाइक के साथ गिरफ्तार किया है।
पुलिस सूत्रों ने बताया कि यह गैंग यू-ट्यूब पर वीडियो देखकर बाइक चोरी में माहिर हो गया। यह इतने शातिर है कि बिना चाबी के बाइक को स्टार्ट कर लेते हैं। कॉन्फिडेंस के लिए इनमें से एक ने अपनी ही दोस्त की बाइक को बिना चाबी के स्टार्ट किया और इसके बाद चोरियां शुरू कर दी। वालीव पुलिस ने मुखबिरों के आधार पर इन्हें गिरफ्तार किया है। इनके पास से चोरी की हिरो होंडा, एक्टिवा और पल्सर जैसी हाई स्पीड बाइक बरामद हुई हैं।
पुलिस ने बताया कि नायगांव इलाके के रहनेवाले प्रसाद मिलिंद पाटील (१९) इस गैंग का मास्टरमाइंड है। रोज नए मोबाइल, नई बाइक देखकर बाकी के आरोपी पाटील के संपर्क में आए। नई-नई गाड़ियों और मोबाइल लेने के दौरान उसकी मुलाकात राज चोनकर से हुई। प्रसाद अपनी गर्लफेंड को बाइक पर घुमाना चाहता था लेकिन उसके पास पैसे नहीं थे। इसलिए उसने यू-ट्यूब पर विडियो देखे और बिना चाबी के बाइक स्टार्ट करने की कला सीखी। इसके बाद उसने प्रैक्टिकल जानकारी के लिए अपने दोस्त की बाइक रिपेयर शॉप पर भी कुछ दिन काम किया।
इस गैंग में महेश गणेश राजभर (२१), सचिन राजन नवले (२०), अब्दुल करीम खान (२१), इब्राहिम सैयद (२६) समेत एक नाबालिक आरोपी शामिल हो गए। यह गैंग तीन टीम में चोरी की वारदात को अंजाम देती थी। एक टीम चोरी करती, दूसरी टीम इलाके की रेकी करती, वहीं तीसरी टीम चोरी की बाइक को अच्छे दामों में पालघर के ग्रामीण इलाके में बेच दिया करती थी।