ये भगवा ध्वज नहीं, मशाल है!, सातारा की सभा में गरजे उद्धव ठाकरे

सातारा में इस बार भगवा लहराना ही चाहिए। सातारा भगवा का गढ़ बनना ही चाहिए, ऐसा आह्वान करते हुए शिवसेनापक्षप्रमुख उद्धव ठाकरे ने कहा कि तुम्हारे हाथ में भगवा ध्वज सिर्फ ध्वज नहीं बल्कि एक मशाल है। देशप्रेम को जागृत करो और भगवा के शिलेदार को दिल्ली भेजो। शिवसेनापक्षप्रमुख कल सातारा में महायुति के उम्मीदवार नरेंद्र पाटील के चुनाव प्रचार में बोल रहे थे। उद्धव ठाकरे कल यहां भी विपक्ष पर दहाड़े। उन्होंने कहा कि हर बार जब-जब देश पर संकट आया तब-तब शिवप्रभु का यह महाराष्ट्र मदद के लिए दौड़कर जाता है। यह इतिहास है और यही हमारी परंपरा है। एमआईएम बंधुओं ओवैसी पर हमला बोलते हुए उन्होंने कहा कि इस ओवैसी ने धमकी देते हुए १५ मिनट का समय मांगा था। मैं ओवैसी को यह बताना चाहता हूं कि सभी मुसलमान उसके बाप के नौकर नहीं हैं। देशप्रेमी मुसलमान हमारे साथ हैं। ऐसा विश्वास जताते हुए उद्धव ठाकरे ने सवाल किया कि औरंगजेब को माननेवाले लोगों को बतौर सांसद भेजना चाहिए क्या? इस पर जनसमुदाय ने एक स्वर में ‘नहीं’ का जवाब दिया। उन्होंने विश्वास जताया कि जिनके खून में निष्ठा है, ऐसा निष्ठावान ही सांसद के रूप में शिवप्रभु के सातारावासियों का लोकसभा में प्रतिनिधित्व कर सकता है। उन्होंने कहा कि जैसे दिल्ली में नरेंद्र भाई हैं, वैसे सातारा में भी नरेंद्र पाटील हैं। नरेंद्र पाटील के खून में ही वचनबद्धता है। अण्णासाहेब कांग्रेसवाले नहीं थे। वे अपने शब्दों पर हमेशा कायम रहते थे, जो वचन देते थे, उसे पूरा करते थे। इसी को निभाते हुए उन्होंने अपना संपूर्ण जीवन बिता दिया।
राकांपा मुखिया शरद पवार पर कटाक्ष करते हुए कहा कि यशवंत राव को फंसानेवाले और उन्हें अपने हाल पर छोड़ जानेवाले शरद पवार ही थे। सातारा में वीरों ने ही जन्म लिया है लेकिन उन्हें याद करनेवाला भी वीर ही चाहिए, मैदान छोड़कर भाग जानेवाला सेनापति हर्गिज नहीं। सातारा की यह भूमि धधकती रणभूमि है। शिवराय के समय से ही सातारा भगवा का गढ़ रहा है। सातारा भगवा का गढ़ होना ही चाहिए, ऐसा आह्वान भी उद्धव ठाकरे ने किया। जनता की समस्याओं को समझनेवाला सांसद दिल्ली जाना चाहिए। माथाड़ी कामगारों की जिम्मेदारियों का भार अण्णासाहेब पाटील ने उठाया था। अब यह भार नरेंद्र पाटील को सौंपना है। कुछ लोग शिवराय को अपना आदर्श मानते हैं और कुछ लोग जेम्स बॉन्ड को। हर तरफ ००७, अब ७ निकल जाएगा और ०० ही रह जाएगा, ऐसा भी उद्धव ठाकरे ने कहा।