राजनीतिक रणनीतिकार प्रशांत किशोर ‘मातोश्री’ पर, मीडिया सहित राजनीति का माहौल गरमाया

राजनीतिक रणनीतिकार प्रशांत किशोर कल ‘मातोश्री’ निवासस्थान पहुंचे। वहां पर शिवसेनापक्षप्रमुख उद्धव ठाकरे से उन्होंने मुलाकात की, जिससे मीडिया सहित राजनीतिक माहौल गरमा गया। इस मौके पर शिवसेना नेता युवासेनाप्रमुख आदित्य ठाकरे भी उपस्थित थे।
२०१४ के लोकसभा चुनाव, बिहार विधानसभा चुनाव में नीतीश और लालू के गठबंधन के लिए प्रशांत किशोर ने सफल प्रबंधन किया। वर्तमान में वे संयुक्त जनता दल के उपाध्यक्ष हैं। कल शिवसेनापक्षप्रमुख उद्धव ठाकरे ने ‘मातोश्री’ निवासस्थान पर शिवसेना सांसदों की महत्वपूर्ण बैठक बुलाई थी।
जदयू के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष व एनडीए की मित्र पार्टी के नेता प्रशांत किशोर ने ‘मातोश्री’ निवासस्थान पर शिवसेनापक्षप्रमुख उद्धव ठाकरे से सदिच्छा भेंट की। इस मुलाकात को लेकर मीडिया में काफी उत्सुकता थी। इस मुलाकात के बाद शिवसेना नेता व सांसद संजय राऊत ने मीडिया से बातचीत की। इस मुलाकात को लेकर पूछे गए सवालों के जवाब में संजय राऊत ने कहा कि इस मुलाकात की ओर राजनीतिक दृष्टि से न देखें। एनडीए की मित्र पार्टी के महत्वपूर्ण नेता के रूप में उन्होंने ‘मातोश्री’ पर उद्धव ठाकरे से मुलाकात की और सांसदों से बातचीत की, ऐसा राऊत ने स्पष्ट किया।

देश का प्रधानमंत्री शिवसेना ही तय करेगी
महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री पद पर शिवसेना ही विराजमान होगी और महाराष्ट्र की जनता ही शिवसेना का मुख्यमंत्री बनाएगी। इतना ही नहीं, हिंदुस्थान की राजनीति में शिवसेना की हमेशा महत्वपूर्ण भूमिका रही है और देश का अगला प्रधानमंत्री भी शिवसेना ही तय करेगी, ऐसा दृढ़ संकल्प व्यक्त किया गया। शिवसेनापक्षप्रमुख उद्धव ठाकरे ने कल ‘मातोश्री’ निवासस्थान पर शिवसेना सांसदों की महत्वपूर्ण बैठक बुलाई थी। इस बैठक के बाद शिवसेना नेता व सांसद संजय राऊत ने पत्रकारों से बातचीत के दौरान उक्त बातें कहीं।
संजय राऊत ने कहा कि लोकसभा चुनाव के प्रचार का समीकरण उद्धव ठाकरे जोड़ रहे हैं। ये सभी समीकरण और गणित जुड़ रहे हैं और शिवसेना का मुख्यमंत्री महाराष्ट्र की जनता बनाएगी तथा देश का अगला प्रधानमंत्री शिवसेना तय करेगी।
युति के लिए मध्यस्थता की जरूरत नहीं
शिवसेना हमेशा अपनी रणनीति पर चलती है। पहले शिवसेनाप्रमुख की रणनीति होती थी अब उद्धव ठाकरे की रणनीति है। युति के लिए किसी की भी मध्यस्थता की जरूरत नहीं है, ऐसा राऊत ने पूछे गए एक सवाल पर स्पष्ट किया।
शिवसेना हमेशा बड़ा भाई
महाराष्ट्र में शिवसेना ने हमेशा बड़े भाई की भूमिका निभाई है और आगे भी बड़े भाई के रूप में ही रहेगी। हिंदुस्थान की राजनीति में शिवसेना ने हमेशा महत्वपूर्ण भूमिका निभाई है। महाराष्ट्र में तो शिवसेना बड़ा भाई है ही और देश में भी है, ऐसा राऊत ने कहा।
हम स्वबल पर लड़ेंगे
युति के संदर्भ में पूछे गए सवालों के जवाब में संजय राऊत ने कहा कि युति के विषय पर शिवसेना कुछ नहीं कहेगी और कहने की भी जरूरत नहीं क्योंकि उद्धव ठाकरे के आदेशानुसार शिवसेना चुनाव के लिए जुट गई है। शिवसेना की अपनी खुद की ताकत है। हम उसी बल पर लड़ेंगे। शिवसेनापक्षप्रमुख ने पहले ही घोषणा की है कि हम अपने स्वबल पर लड़ेंगे। युति की चर्चा में हम कभी शामिल नहीं होते। वह चर्चा केवल मीडिया ही करती है। उन्हीं के माध्यम से ये बातें हमारे पास पहुंचती हैं।