" /> राज्य भर में समृद्धि लाओ!- मुख्यमंत्री

राज्य भर में समृद्धि लाओ!- मुख्यमंत्री

राज्य में नए उद्योग लाते समय इसका विकेंद्रीकरण किया जाना चाहिए। राज्य के लिए महत्वपूर्ण साबित होनेवाला हिंदूहृदयसम्राट बालासाहेब ठाकरे महाराष्ट्र समृद्धि राजमार्ग का निर्माण करते समय, उद्योग का एक द्वीप बनाकर क्षेत्र में सभी सुविधाएं प्रदान की जानी चाहिए। इस राजमार्ग के माध्यम से यह किया जाना चाहिए। ऐसा मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने कहा।
मुख्यमंत्री ठाकरे ने कल वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से समृद्धि महामार्ग के काम की समीक्षा की। इस अवसर पर नगरविकास व सार्वजनिक निर्माण मंत्री एकनाथ शिंदे, मुख्य सचिव अजोय मेहता, सार्वजनिक निर्माण विभाग के अतिरिक्त मुख्य सचिव मनोज सौनिक, महाराष्ट्र राज्य सड़क विकास महामंडल के उपाध्यक्ष राधेश्याम मोपलवार आदि उपस्थित थे। इस अवसर पर
मुख्यमंत्री ने कहा कि कोरोना के अवसर पर जिन चीजों पर ध्यान दिया गया, उनमें से एक यह था कि उद्योग जिस क्षेत्र में स्थित है, वहां जनसंख्या का घनत्व अधिक है। इस स्थिति में लॉकडाउन करना पड़ता है। इसलिए, राज्य में नए उद्योगों को लाने के दौरान इसका विकेंद्रीकरण किया जाना आवश्यक है। समृद्धि राजमार्ग का निर्माण करते समय उद्योग वार द्वीपों को ध्यान में रखा जाना चाहिए। परिवहन की सुविधा देते समय, इन उद्योगों को उसी क्षेत्र में आवश्यक सुविधाएं प्रदान करने की व्यवस्था की जानी चाहिए। भौगोलिक परिस्थितियों के अनुसार क्षेत्र को औद्योगिक द्वीप के रूप में विकसित करते हुए समृद्धि राजमार्ग पर नियमित अंतराल पर ट्रामा केयर सेंटर स्थापित करने का भी निर्देश मुख्यमंत्री ने दिया। उन्होंने कहा कि इस राजमार्ग पर विभिन्न नोड्स बनाते हुए, उद्योग, कृषि, पर्यटन के अनुसार भौगोलिक परिस्थितियों के अनुसार योजना बनाई जानी चाहिए। ऐसा उन्होंने कहा। मुख्यमंत्री ने यह भी निर्देश दिया कि कपड़ा उद्योग को और अधिक गति देने का प्रयास किया जाए। मुख्यमंत्री ने यह भी कहा कि 24 जिलों को जोड़ने वाली इस परियोजना को जल्द से जल्द पूरा किया जाना चाहिए। इस अवसर पर नगर विकास मंत्री शिंदे ने कहा कि 701 कि.मी. में 8311.15 हेक्टेयर भूमि संपादित किया गया है। यह राजमार्ग सीधे 10 जिलों को जोड़ेगा और 24 जिलों की सड़कों को जोड़ा जाएगा। इससे काफी समय की बचत होगी। जेएनपीटी जैसे बंदरगाह भी आ रहे हैं। उन्होंने कहा कि विभिन्न नोड्स में उद्योग नियोजन चल रहा है। इस अवसर पर मोपलवार ने प्रस्तुतिकरण किया।