" /> राज्य सरकार ने पहुंचाया 18 लाख श्रमिकों को मुलुक : पश्चिम रेलवे से चली 1,221 श्रमिक स्पेशल

राज्य सरकार ने पहुंचाया 18 लाख श्रमिकों को मुलुक : पश्चिम रेलवे से चली 1,221 श्रमिक स्पेशल

पश्चिम रेलवे ने 2 मई से 11 जून, 2020 तक 1,221 श्रमिक स्पेशल ट्रेनों का परिचालन किया है, राज्य सरकार द्वारा चलाई गई श्रमिक स्पेशल ट्रेन की मदद से लगभग 18.35 लाख प्रवासी मजदूर और उनके परिवारों को सकुशल उनके मुलुक पहुंचाया है। श्रमिक स्पेशल ट्रेनें चलाने के राज्य सरकार और भारतीय रेलवे के निर्णय से लाखों प्रवासी श्रमिक और उनके परिवार बड़े पैमाने पर लाभान्वित हुए हैं।
पश्चिम रेलवे के मुख्य जनसंपर्क अधिकारी रविंद्र भाकर के अनुसार 1,221 श्रमिक विशेष ट्रेनों में से, बिहार के बाद उत्तर प्रदेश के लिए अधिकतम ट्रेनें चलाई गईं। विशेष श्रमिक ट्रेनें उड़ीसा, मध्य प्रदेश, झारखंड, छत्तीसगढ़, राजस्थान, उत्तराखंड, पश्चिम बंगाल, गुजरात, मणिपुर, जम्मू और कश्मीर, हिमाचल प्रदेश, तेलंगाना, आंध्र प्रदेश, तमिलनाडु, केरल, असम और महाराष्ट्र के लिए भी परिचालित की गईं। लगभग 18.35 लाख यात्रियों को 2 मई, 2020 से 11 जून, 2020 के बीच देश के विभिन्न राज्यों में उनके गृहनगरों तक राज्य सरकार की मदद से पश्चिम रेलवे द्वारा पहुंचाया गया है।
भाकर ने कहा कि इन श्रमिक विशेष ट्रेनों ने लॉकडाउन के कारण फंसे हुए मजदूरों और उनके परिवारों के तेजी से आवागमन को सुगम बनाने में उल्लेखनीय मदद की है। 11 जून, 2020 को मुंबई उपनगरीय खंड के बोरीवली स्टेशन से उत्तर प्रदेश के आजमगढ़ के लिए एक श्रमिक विशेष ट्रेन रवाना हुई। 3 मई से 11 जून, 2020 तक, कुल 184 श्रमिक स्पेशल ट्रेनें पश्चिम रेलवे के मुंबई उपनगरीय खंड से निकली हैं, जिनमें बांद्रा टर्मिनस से 67 श्रमिक विशेष ट्रेनें, बोरीवली से 72, वसई रोड से 31, दहानू रोड से 2 और पालघर स्टेशन से 12 ट्रेनें शामिल हैं। इन ट्रेनों को गोरखपुर, जौनपुर, गोंडा, वाराणसी, प्रतापगढ़, भागलपुर, प्रयागराज, दरभंगा, दानापुर, हावड़ा आदि स्टेशनों के लिए रवाना किया गया। इन 1,221 ट्रेनों में से मुंबई डिवीजन ने सबसे अधिक 709 ट्रेनें, अमदाबाद डिवीजन ने 259, वडोदरा डिवीजन ने 100, भावनगर डिवीजन ने 30, राजकोट डिवीजन ने 117 और रतलाम डिवीजन ने 6 श्रमिक ट्रेनों का परिचालन किया। इन विशेष ट्रेनों का परिचालन सामाजिक सुरक्षा मानदंडों को बनाए रखने के अलावा यात्रियों की समुचित थर्मल स्क्रीनिंग के साथ किया जा रहा है। यात्रा के दौरान यात्रियों को मुफ्त भोजन और पैकेज्ड पेयजल भी दिया जा रहा है।