" /> राममंदिर भूमि पूजनोत्सव से शिव की नगरी काशी हुई राममय,जगह जगह पूजा पाठ व मिष्ठान वितरण

राममंदिर भूमि पूजनोत्सव से शिव की नगरी काशी हुई राममय,जगह जगह पूजा पाठ व मिष्ठान वितरण

राम की नगरी अयोध्या में बुधवार को राममंदिर के भूमि पूजन का कार्यक्रम भव्य आयोजन के बीच पूरे विधि विधान के साथ हुआ जिसकी साक्षी पूरी दुनिया बनी।लेकिन भगवान श्री राम के आराध्य देव भगवान शिव की नगरी काशी में इसका उल्लास कुछ अलग ही अंदाज में दिखा। इस अतिप्राचीन नगरी को भव्य ढंग सजावट कर इसे पूरी राममय बना दिया गया था। पीएम मोदी जब राममंदिर की भूमि पूजन कार्यक्रम में शामिल हुए उसी समय यहां भी हर चौराहा ,देवालय व गंगा घाटों पर विविध धार्मिक अनुष्ठान हुआ। इसके साथ ही काशीवासियों ने आराध्य देव, महादेव से प्रार्थना किया कि राममंदिर जल्द ही बिना किसी बाधा के मूर्त ले।
इस दौरान कुछ जगहों पर मिष्ठान वितरण के साथ ही आतिश बाजी भी की गई।

आयोजनों के इस क्रम में गायत्री साधकों ने सुबह 08.30 बजे से अपने-अपने घरों में मन्दिर निर्माण की सफलता हेतु गायत्री यज्ञ किया।
इस ऐतिहासिक पल में अखिल विश्व गायत्री परिवार, गायत्री तीर्थ शांतिकुंज , हरिद्वार के प्रमुख डा0 प्रणव पाण्डया जी के आवाहन पर पुरे विश्व में दीप यज्ञ का आयोजन किया गया इसी कड़ी मे वाराणसी के गायत्री साधको ने सायंकाल कोरोना संक्रमण के समूल नाश हेतु सामूहिक गायत्री मंत्र एवं महामृत्युंजय महामंत्र के सस्वर उच्चारण के उपरान्त गायत्री साधको ने परम पूज्य गुरूदेव युग ऋषि पं0 श्रीराम शर्मा आचार्य जी, माता भगवती देवी एवं माता गायत्री की आरती उतारने के उपरान्त अपने-अपने घरों में गायत्री दीप महायज्ञ का आयोजन किया, जिसमें 51 दीपक पूरे गायत्री विधिविधान से प्रज्जवलित किये गये।

हनुमान घाट स्थित श्री काशी काम कोटिेश्वर मंदिर के प्रांगण में काशी के सुप्रसिद्ध वैदिक विद्वान एवं वैदिक सेवा न्यास के काशी प्रांत प्रमुख पंडित के वेंकटरमण घनपाठी के नेतृत्व में अयोध्या में श्री राम मंदिर शिलान्यास के शुभ अवसर पर वैदिक विद्वानों ने दीप जलाकर सामूहिक रूप से पुरुष सूक्त का पाठ किया। इस अवसर पर संबोधित करते हुए वैदिक विद्वानों ने कहा कि लगभग 500 वर्षों के बाद अयोध्या में मर्यादा पुरुषोत्तम भगवान श्री राम का भव्य मंदिर बनने का सपना साकार होने जा रहा है जिससे काशी के समस्त वैदिक समाज में अत्यंत हर्ष एवं उत्साह का माहौल है। हम सभी काशी के वैदिक समाज की ओर से समस्त देशवासियों को इस अवसर पर हार्दिक शुभकामनाएं देते हुए भगवान श्रीराम से कोरोना महामारी से पीड़ित जनता के कष्टों को दूर करने की प्रार्थना करते है। इस कार्यक्रम में प्रमुख रूप से वैदिक विद्वान आर शिव कुमार शास्त्री, के वेंकटरमण घनपाठी,आर शंकर नारायण, संदीप राव , संतोष दातार, वेणुगोपाल , मनीष शर्मा, सुरेश शर्मा , अवनीश द्विवेदी, विपुल आचार्य ,विश्वनाथन जी , वेंकटरमण मामा जी , जी कुमार तथा मठ के व्यवस्थापक श्री चंद्रशेखर चंद्रूजी उपस्थित थे।

भाजपा काशी क्षेत्र स्वच्छता प्रकल्प संयोजक अनुप जायसवाल के नेतृत्व में नयीसड़क स्थित गीतामंदिर पर अयोध्या में पीएम मोदी जी के द्वारा शिलापूजन के एतिहासिक अवसर पर यहां भगवान श्री राम जी का पूजन अर्चन कर ढोल, नगाडे, दीपोत्सव, मिठाई,पटाखों पूरे हर्षोल्लास जय श्री राम के साथ एकदूसरे को मिठाई खिलाकर बधाई दी।कार्यक्रम में मुख्यातिथि श्री नरसिंह दास उपसभापति नगरनिगम वाराणसी ने सर्वप्रथम भगवान श्रीराम के चित्र पर माल्यार्पण के पश्चात स्व.अशोक सिंघल जी,कोठरी बंधुओं के चित्र पर माल्यार्पण, भोग, आरती, पूजन कर जयश्रीराम, अशोक सिंघल,कोठरी बंधु अमर रहे। इस कार्यक्रम संचालन मनीष चौरसिया,धन्यवाद ओमप्रकाश यादव ने किया।
लमही के इन्द्रेश नगर के सुभाष भवन में विशाल भारत संस्थान एवं मुस्लिम महिला फाउण्डेशन के संयुक्त तत्वावधान में ‘श्रीराम जन्मभूमि पूजनोत्सव’ का आयोजन सोशल डिस्टेंसिंग को ध्यान में रखते हुये किया गया। अयोध्या से लायी गयी श्रीराम जन्मभूमि की पवित्र मिट्टी दर्शन के लिये रखी गयी। सुभाष भवन को झंडियों और हनुमान ध्वजा से सजाया गया। चित्रकार रूचि सिंह द्वारा बनाये गये भगवान श्रीराम, माता जानकी, हनुमान जी के चित्रों की प्रदर्शनी लगायी गयी। मुस्लिम महिलाओं द्वारा तैयार किये गये सजावटी दीपों को जलाया गया। हिन्दू-मुस्लिम महिलाओं ने मिलकर श्रीराम के भजन गाये।