रिकॉर्डों की झड़ी

जैसे कोई बारिश हो। झड़ी लगी हो, रिकॉर्ड बरस रहे हों। यही हाल है विराट कोहली के बल्ले से निकलनेवाले हर एक रन का। अब हो ये गया है कि विराट कोई भी मैच खेलें उनके बल्ले से रन निकले या न निकले वो एक कीर्तिमान में दर्ज हो जाते हैं क्योंकि विराट उस मुकाम पर जा पहुंचे हैं, जहां कोई भी खिलाड़ी सिर्फ रिकॉर्ड ही बनाता है। अब देखो रांची में विराट कोहली ने वनडे में ४१वां शतक लगाया। ये वनडे में उनकी बैक-टू-बैक सेंचुरी थी। इससे पहले उन्होंने नागपुर में भी धमाकेदार शतकीय पारी खेली थी। रांची में विराट ने एडम जाम्पा की गेंद पर धमाकेदार छक्का लगाकर शतक पूरा किया। सचिन तेंदुलकर ने ४१ शतक लगाने में ३६९ पारियां खेली थीं लेकिन विराट ने ये कारनामा सिर्फ २१७ पारी में ही कर दिया। विराट ने घरेलू मैदान पर पिछले ११ वनडे में ७ शतक लगाए हैं। यानी सिर्फ ४ वनडे में वो शतक से चूके हैं। रांची के असली राजकुमार तो विराट कोहली हैं। उन्होंने यहां १९२ की औसत से ३८४ रन बनाए हैं। इस दौरान उनके बल्ले से दो शतक निकले हैं। घरेलू मैदान पर विराट के बल्ले से ये ३०वां शतक था। साउथ अप्रâीका के हाशिम अमला ने भी घरेलू मैदान पर ३० शतक लगाए हैं। घरेलू मैदान पर सबसे ज्यादा शतक लगाने का रिकॉर्ड फिलहाल सचिन के नाम है। उन्होंने ४२ शतक लगाए थे। दूसरे नंबर पर ३६ शतक के साथ रिकी पॉन्टिंग हैं। वनडे में चेज करते हुए विराट के बल्ले से ये २५वां शतक था। इसके अलावा ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ विराट का चेज करते हुए ये छठा शतक था। घरेलू मैदान पर ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ ये विराट का पांचवां शतक था। वेस्टइंडीज के खिलाफ भी विराट ने घरेलू मैदान पर ५ शतक लगाए हैं।