रु. २५ हजार में बेच दिया मासूम, दो गिरफ्तार

अपहरण के मामले में टिटवाला पुलिस ने नौ महीने बाद दो लोगों को गिरफ्तार किया है। गिरफ्तार लोगों में एक महिला भी है। महिला को तीन लड़कियां हैं, लड़के की चाह ने उसे सलाखों के पीछे पहुंचा दिया। यह बच्चा उसने २५ हजार रुपए में खरीदा था।

जानकारी के अनुसार टिटवाला के म्हारल गांव की रहनेवाली ७० वर्षीय हनुमंती भीमा विटकर २९ जून २०१८ की रात को अपने लगभग २ वर्षीय नाती यश उर्फ चंदर के साथ घर में सो रही थी कि किसी अज्ञात व्यक्ति ने रात के समय हनुमंती के घर से मासूम बच्चे का अपहरण कर लिया। यश की मां अंबिका रघु विटकर (३६) को एक साल के भीतर यह दोहरा सदमा था। जब यश चार महीने का था, तभी उसके पिता रघु विटकर की मौत हो गई थी और अब यश का अपहरण हो गया था। परिजनों का पेट पालने के लिए अंबिका टिटवाला रेलवे स्टेशन के पास भीख मांगा करती थी।

अंबिका की शिकायत पर टिटवाला पुलिस ने यश की तलाश शुरू की। तलाश के दौरान पुलिस को मालूम हुआ कि म्हारल गांव का ही रहनेवाला सोमनाथ बाबूराव पवार (४०) जो कि पेशे से रिक्शाचालक है, का इस अपहरण में हाथ है। पुलिस ने सोमनाथ के मोबाइल लोकेशन का डिटेल निकालने के बाद उसे हिरासत में लेकर पूछताछ किया तो मालूम पड़ा कि यश को उसने सातारा की रहनेवाली रेणुका यलप्पा पवार नामक महिला को बेच दिया है। पुलिस ने बुधवार यानी ६ मार्च को सातारा निवासी रेणुका को गिरफ्तार कर उससे पूछताछ की तो उसने बताया कि उसे तीन लड़कियां ही हैं। कोई लड़का नहीं था, जिसके चलते उसने सोमनाथ से यश को २५ हजार रुपए में खरीद लिया था। पुलिस ने सोमनाथ तथा रेणुका को गिरफ्तार कर कोर्ट में पेश किया, जहां कोर्ट ने दोनों को ११ मार्च तक पुलिस हिरासत में रखने का आदेश दिया है।