" /> रेड जोन में मुंबई! करना पड़ेगा थोड़ा इंतजार

रेड जोन में मुंबई! करना पड़ेगा थोड़ा इंतजार

नासिक से लखनऊ के बीच चलेगी श्रमिक एक्सप्रेस
सरकार द्वारा लॉकडाउन 3.0 की घोषणा के साथ ही देशभर में फंसे करोड़ों मजदूर, विद्यार्थी और प्रवासियों को अपने-अपने राज्यों में भेजने के लिए काम शुरू हो गया है। श्रमिक एक्सप्रेस के नाम से चलनेवाली इन ट्रेनों में महाराष्ट्र से फिलहाल नासिक को शामिल किया गया। नासिक से लखनऊ और भोपाल ट्रेन चलाने की योजना है। इन ट्रेनों में खाने और पानी की व्यवस्था प्रशासन द्वारा की जाएगी। ट्रेन का किराया एक्सप्रेस ट्रेन के स्लीपर क्लास जिसमें सूपरफास्ट चार्ज जोड़ा जाएगा और ₹20 का अतिरिक्त शुल्क होगा। ये ट्रेनें एक पॉइंट से दूसरे पॉइंट तक ही चलेंगी। यात्रा के दौरान मास्क पहनना और सामाजिक दूरी बनाए रखना अनिवार्य होगा।

होगी स्क्रीनिंग
यात्रियों की स्टेशन पर अडवांस में स्क्रीनिंग होगी। यात्रियों को स्टेशन तक स्थानीय प्रशासन द्वारा सेनिटाइज्ड बसों में चरणबद्ध तरीक़े से लाया जाएगा। जिन यात्रियों में संक्रमण के कोई लक्षण न दिखाई देते हों, उन्हें ही अनुमति दी जाएगी। गंतव्य स्टेशन तक पहुँचने के बाद आगे ले जाने ज़िम्मेदारी राज्य सरकार और स्थानीय प्रशासन की होगी।

कराना होगा पंजीकरण
पहले पंजीकरण, फिर परिवहन की प्रक्रिया हो रही है। इस काम को संजीदगी से अंजाम देने के लिए राज्य सरकारों ने उच्चाधिकारी नियुक्त किए हैं। लाने- ले जाने के काम को और सुगम बनाने के लिए अब रेलवे मंत्रालय से भी आग्रह किया है। देश में लगभग 40 दिनों के बाद पहली ट्रेन तेलंगाना के लिंगमपल्ली से हटिया के बीच चली है। इसे देखते हुए मुंबई में फंसे लोगों को भी उम्मीद जगी है।

मुंबई की स्थिति ठीक नहीं
एक अधिकारी ने बताया कि मुंबई, पुणे और नागपूर की स्थिति संवेदनशील है। ऐसे में राज्य सरकार यहां से ट्रेन चलाने के निर्णय को लेकर विचार विमर्श कर रही है। हालांकि, राज्य सरकार में कुछ बड़े स्तर के मंत्रियों ने मुंबई से ट्रेन चलाने का सुझाव दिया था। नई गाइडलाइन में देशभर में रेड, ग्रीन और ऑरेंज जोन बनाए गए हैं। इनमें से केवल ग्रीन और ऑरेंज जोन में ही नियमों में शिथिलता होगी। मुंबई के आँकड़ों के देखते हुए फिलहाल 18 मई तक कोई ट्रेन नहीं चलाई जाएगी। एक अधिकारी ने कहा म्यूनिसिपल हद में भी जोन बनाए जा रहे हैं, यदि इसमें कोई वार्ड या इलाक़े ग्रीन और ऑरेंज जोन की श्रेणी में होंगे, तो यात्रियों के आने-जाने का कोई निर्णय लिया जा सकता है।