रेती माफियाओं का आतंक, पुलिस अधिकारी को डंपर से कुचलने की कोशिश

रेती माफियाओं का आतंक दिन ब दिन बढ़ता जा रहा है। चोरी रोकने के लिए तैनात पुलिस और प्रशासनिक अधिकारियों के साथ विवाद होना तो आम बात थी लेकिन अब माफिया पुलिस अधिकारियों की जान लेने पर उतारू हो चुके हैं। अवैध रेत खनन पर कार्रवाई करने पहुंची पुलिस टीम के एक अधिकारी को डंपर से कुचलने का प्रयास किया गया है। इस मामले में विरार पुलिस ने चालक के खिलाफ मामला दर्ज कर ३ लोगों को गिरफ्तार किया है।
रविवार की रात ९.३० बजे पालघर एसपी के अंगरक्षक दिनेश पाटील, राहुल दलवी को मुखबिर के जरिए सूचना मिली थी कि विरार पुलिस थाना अंतगर्त खर्डी रेती बंदर से रेत की चोरी की जा रही है। दोनों पुलिस अधिकारी ने पालघर एसपी गौरव सिंह को घटना से अवगत कराया। एसपी गौरव सिंह ने दोनों को वहां पहुंचने को कहा।
पालघर एसपी के अंगरक्षक के मौके पर पहुंचते ही रेती खनन करनेवालों में हड़कंप मच गया। इस दौरान डंपर क्रं. एमएच०४ एफजे ३२२१ के चालक अनिल तुकाराम चव्हाण ने तेज गति से डंपर को अंगरक्षक पर चढ़ा दिया। हालांकि इस घटना में दोनों अंगरक्षक बाल-बाल बच गए। रेती माफिया द्वारा पुलिस अधिकारी पर जानलेवा हमले को देखते हुए एसपी गौरव सिंह ने पुलिस फोर्स के साथ रात में छापामारी की।

खनिज विभाग सुस्त
बारिश के थमते ही नदी और नालों से बेतहाशा तरीके से रेत का खनन किया जा रहा है। कोपरी, खनिवाड़े, खर्डी, वैतरना सारावली, नारंगी क्षेत्र से सबसे अधिक रेत निकाली जा रही है। खनिज विभाग की सुस्ती का पूरा फायदा रेत माफिया उठा रहे हैं। पुलिस जरूर इनके खिलाफ कार्रवाई कर रही है लेकिन खनिज विभाग की तरफ से कोई कार्रवाई नहीं की जा रही है। हालांकि १५ दिन पहले खनिज विभाग ने एक दिखावटी कार्रवाई की थी। विरार विभागीय डीवाईएसपी रेणुका बांगडे ने बताया कि एसपी गौरव के अंगरक्षक पर रेती माफिया ने जानलेवा हमला किया था। जिसके बाद पुलिस ने कार्रवाई करते हुए १५ जेसीबी, ३ डंपर समेत नीरज लाल यादव (२९) डंपर चालक, सुनील इंद्रजीत चव्हाण (२०) जेसीबी चालक अनिल तुकाराम चव्हाण डंपर चालक के खिलाफ मुकदमा दर्ज कर गिरफ्तार किया है।