" /> रेलवे के ‘फूड डिस्ट्रीब्यूशन अभियान’ में शामिल हुई दवाइयां और किराना किट

रेलवे के ‘फूड डिस्ट्रीब्यूशन अभियान’ में शामिल हुई दवाइयां और किराना किट

राष्ट्रव्यापी लॉक डाउन की घोषणा के बाद से पश्चिम रेलवे के सभी 6 मंडलों में ‘मिशन फूड़ डिस्ट्रिब्यूशन’ अभियान चलाया जा रहा है। इस अभियान के तहत विभिन्न रेलवे स्टेशनों के आस-पास के क्षेत्रों में बड़ी संख्या में मौजूद जरूरतमंद और बेसहारा लोगों की रेलवे मदद कर रही है। रेलवे ने अपने इस अभियान में अब भोजन के साथ साथ लोगों को किराना किट और होम्योपैथिक दवाओं को भी शामिल किया है।

पश्चिम रेलवे के मुख्य जनसंपर्क अधिकारी रविंद्र भाकर के अनुसार पश्चिम रेलवे के ‘मिशन फूड डिस्ट्रिब्यूशन’ अभियान में सबसे अहम भूमिका निभानेवाले आईआरसीटीसी ने मुंबई सेंट्रल और अहमदाबाद में स्थित अपने बेस किचनों के जरिए अपने परोपकारी प्रयासों को लगातार जारी रखा है। मुंबई में लॉक डाउन के दौरान परेशान, गरीब और जरूरतमंद व्यक्तियों को निःशुल्क भोजन उपलब्ध कराने के क्रम में मुंबई सेंट्रल स्थित इंडियन रेलवेज कैटरिंग एंड टूरिज्म कॉर्पोरेशन के बेस किचन में 16 अप्रैल, 2020 को 5600 सामुदायिक भोजन पैकेट तैयार कर वितरित किए गए, जो दक्षिण और मध्य मुंबई में फैले हुए एनजीओ जायंट्सग्रुप, नन्ही परी, सलाम मुंबई, तेरापंथ युवक परिषद आदि के जरिए बांटे गए। आईआरसीटीसी के अमदाबाद बेस किचन में 2500 सामुदायिक भोजन पैकेट तैयार किए गए, जो आरपीएफ जवानों और अहमदाबाद के जिला मजिस्ट्रेट कार्यालय की टीमों के माध्यम से वितरित किए गए।आईआरसीटीसी के अलावा पश्चिम रेलवे ने अपने स्तर पर भी मिशन डिस्ट्रिब्यूशन अभियान को अन्य विभिन्न स्रोतों की मदद से लगातार जारी रखा है। इसके अंतर्गत अब तक मुंबई डिवीजन ने कुल 1,08,000 भोजन पैकेटों की आपूर्ति की है और अमदाबाद डिवीजन ने कोरोना लॉक डाउन अवधि के दौरान गरीब और ज़रूरतमंद व्यक्तियों को 93,950 भोजन पैकेटों की आपूर्ति की है। एक प्रेरणादायक पहल के रूप में, राजकोट स्टेशन पर पार्सल लोडर और निजी सफाई कर्मियों को 5 किलो आटा, 1 किलो चावल, 500 ग्राममूंग दाल, 1 लीटर तेल, 1 किलो चीनी, 1 किलो नमक और 1 पैकेट युक्त कुल 80 राशन किट वितरित किए गए। पश्चिम रेलवे के रेल सुरक्षा बल ने अपने स्वयं के स्रोतों से 345 खाद्य पैकेट तैयार कर वितरित किए, वहीं NGO द्वारा प्रदान किए गए 1470 खाद्य पैकेट भीवितरित किए। होम्योपैथिक चिकित्सक डॉ. परिमल परमार के मार्गदर्शन में कोरोना संक्रमण की रोकथाम के लिए एआरएस एएलबी 30 नामक होम्योपैथिक दवा के 75 पैकेट वड़ोदरा की विश्वा मित्री रेलवे कॉलोनी और स्टेशन परिसर में वितरित किए गए।