रेल कोच रेस्टोरेंट डीरेल!, रेलवे बोर्ड में धूल फांक रही है फाइल

रेल यात्रियों को रेल कोच में अनोखा अनुभव देने के लिए रेलवे ने मुंबई के छत्रपति शिवाजी महाराज टर्मिनस पर जिस रेल कोच रेस्टोरेंट की योजना बनाई थी, वह योजना फिलहाल डीरेल होती हुई दिख रही है। रेल अधिकारियों की मानें तो आईआरसीटीसी ने रेल कोच रेस्टोरेंट से जुड़ी पॉलिसी का प्रस्ताव रेलवे बोर्ड को भेजा था लेकिन इस योजना की फाइल रेलवे बोर्ड में कई महीनों से धूल फांक रही है।
रेल अधिकारियों के अनुसार रेलवे में पुराने हो चुके वातानुकूलित कोच का नवीनीकरण कर उसे रेस्टोरेंट में तब्दील करने की योजना बनाई गई है। इस योजना से जुड़ा प्रस्ताव रेलवे बोर्ड को कई महीने पहले आईआरसीटीसी कॉरपोरेट ऑफिस द्वारा भेजा गया है। आईआरसीटीसी के एक अधिकारी के अनुसार रेल कोच रेस्टोरेंट को लगभग ३ हजार वर्ग मीटर में बनाया जाना है। आईआरसीटीसी भोपाल की तर्ज पर ही इसे मुंबई में बनाना चाहती है। इस रेस्टोरेंट में इंडियन से लेकर कॉन्टिनेंटल व्यंजन परोसने की योजना है। रेल रेस्टोरेंट में एक साथ ५० ग्राहकों के बैठने की क्षमता होगी। रेलवे ने छत्रपति शिवाजी महाराज टर्मिनल के पी डिमेलो रोड की ओर के आवाजाहीवाले मार्ग पर इस रेस्टोरेंट को स्थापित करने की योजना बनाई है।
 भोपाल में है रेल कोच रेस्टोरेंट
रेलवे बोर्ड के चेयरमैन अश्विनी लोहानी जब मध्य प्रदेश पर्यटन विकास के मैनेजिंग डायरेक्टर थे तब उन्होंने पर्यटन को बढ़ावा देने के लिए भोपाल के होटल लेक विव अशोक में `शान ए भोपाल’ एक्सप्रेस नाम देकर रेल रेस्टोरेंट की शुरुआत की थी। यह रेल रेस्टोरेंट आईआरसीटीसी के अंतर्गत बनाया जाना है।
मध्य रेलवे के जनसंपर्क अधिकारी अनिल जैन का कहना है कि यात्रियों की सुविधा और पर्यटन को बढ़ावा देने के लिए रेल कोच रेस्टोरेंट की योजना है। उन्होंने कहा कि यह रेस्टोरेंट छत्रपति शिवाजी महाराज टर्मिनस स्टेशन के प्रवेश द्वार के पास होगा।
खास बातें
 पुराने एसी कोच का नवीनीकरण
 रेस्टोरेंट में ५० लोगों के बैठने की क्षमता
 रेलवे बोर्ड में लटकी फाइल
 ३ हजार वर्ग मीटर में बनाया जाना है