रोप वे से जाओगे, जमकर आनंद उठाओगे!, जल्द शुरू होगी योजना सारी मंजूरी मिली

सुर, संगीत, शिल्प और चित्रकला के संगम से सराबोर दो दिवसीय एलिफेंटा उत्सव में शामिल होने के लिए मुंबई और बाहर से आए पर्यटकों की जमकर भीड़ उमड़ी। शुरुआती जानकारी के अनुसार दो दिन में एक लाख से ज्यादा पर्यटकों ने उत्सव का आनंद लिया।
रविवार को गेट वे परिसर से बोट में जाने से पहले मीडिया से बातचीत में पर्यटन मंत्री जयकुमार रावल ने कहा कि लोगों की सुविधा के लिए राज्य सरकार कई कदम उठा रही है। एलिफेंटा तक रोप वे के लिए मंजूरी मिल चुकी है और अगले दो साल में ये शुरू हो जाएगी। इसके अलावा शिवाजी स्मारक बनने के बाद लोग एलिफेंटा और शिवाजी स्मारक दोनों का एक साथ दौरा कर सकेंगें। रावल ने रविवार को एलिफेंटा पर खुद हेरिटेज वॉक में हिस्सा लिया और यहां के इतिहास और महत्व के बारे में जानकारी ली। वॉक के लिए खासतौर पर दिव्यांग बच्चों को बुलाया गया था। इसके अलावा बड़ी संख्या में पर्यटक भी शामिल हुए। एलिफेंटा जाने के लिए कतारें लगी रही।
महाराष्ट्र पर्यटन विकास निगम की ओर से बहुप्रतीक्षित एलिफेंटा उत्सव का आयोजन किया गया है। शाम को एलिफेंटा परिसर में गुफाओं के साथ स्वरंग के रंग दिखे। मशहूर मराठी रंगकर्मी स्वप्निल बांदोड़कर और गायिका प्रियंका बर्वे अपने साथी कलाकारों के साथ नृत्य, नाट्य, राग रंग और संगीत का अद्भुत समां बांधा तो इनके साथ ही पर्यटकों को सम्मोहित करने के लिए वरिष्ठ रंगकर्मी अच्युत पालव, चित्रकार वासुदेव कामत, व्यंग्यचित्रकार नीलेश जाधव और शेर जाधव अपनी कूंची से अलबेले रंग बिखेरे। मुंबई की पहचान गेट वे ऑफ इंडिया से लेकर समंदर की लहरों पर सवार होकर एलिफेंटा की गुफाओं तक हर जगह ये रंग बिखरे हुए थे।