" /> रो-रो सेवा मील का पत्थर साबित होगी! – मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे

रो-रो सेवा मील का पत्थर साबित होगी! – मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे

महाराष्ट्र जल यातायात विभाग ने भाऊचा धक्का से मांडवा जेट्टी के बीच रो-रो सेवा शुरू करने में सफलता हासिल की है। यह जल यातायात मील का पत्थर साबित होगी। यह बात मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने कही।
राज्य में तट के किनारे जल यातायात फायदेमंद साबित होगा, इस बात को ध्यान में रखकर इस सेवा को प्राथमिकता दी जाएगी। ऐसा भी मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने कहा। भाऊचा धक्का से मांडवा ‘रो पैक्स फेरी सेवा’ और ‘मांडवा टर्मिनल सेवा’ कल से शुरू की गई है। कोरोना की परिस्थितियों को ध्यान में रखकर भाऊचा धक्का से मांडवा रो-रो सेवा का उद्घाटन कार्यक्रम नहीं होगा, ऐसा मुख्यमंत्री ने पहले ही कहा था। मात्र कार्यक्रम की औपचारिकता के लिए न रुकते हुए, यात्रियों की सुविधा के लिए तत्काल यह सेवा शुरू करने का मुख्यमंत्री ने निर्देश दिया था। इस सेवा के लिए मुख्यमंत्री ने शुभकामनाएं दी। इस सेवा के लिए केंद्र और राज्य सरकार ने मिलकर मांडवा जेट्टी पर १५० करोड़ रुपए खर्च किए हैं।
नई मुंबई, नेरुल, बेलापुर में भी जल्द से जल्द जल यातायात शुरू करने की तैयारी है। भाइंदर से डोंबिवली जल यातायात के प्रारूप की अंतिम मंजूरी लेकर आगामी दो वर्ष में यह सेवा शुरू की जाएगी। जल यातायात के माध्यम से पर्यटन व रोजगार बढ़ाया जाएगा, ऐसा मुख्यमंत्री ने कहा। भाऊचा धक्का से मांडवा के बीच समुद्री अंतर १९ किमी है। जल यातायात से इस दूरी को तय करने में एक घंटे लगेंगे। सड़क मार्ग से जाने में ४ घंटे का समय लगता था। रो पैक्स की क्षमता एक साथ ५०० यात्रियों और १४५ वाहन को ले जाने की है।
रो-रो सेवा की जानकारी
भाऊचा धक्का से मांडवा रो-पैक्स सेवा से यात्रियों के समय और र्इंधन की बचत होगी। नई मुंबई, पनवेल परिसर की यातायात समस्या में कमी होने में सहायता मिलेगी और पर्यटन को गति मिलेगी।
भाऊचा धक्का स्थित जेट्टी व टर्मिनल का निर्माण कार्य मुंबई पोर्ट ट्रस्ट के माध्यम से व मांडवा की जेट्टी व टर्मिनल का निर्माण कार्य मेरीटाइम बोर्ड के माध्यम से किया गया है। केंद्र सरकार की सागरमाला योजना के तहत ५० प्रतिशत और राज्य सरकार द्वारा ५० प्रतिशत निधि इसके लिए उपलब्ध कराई गई थी। भाऊचा धक्का से मांडवा के दरम्यान रो-पैक्स सेवा के लिए एमटुएम जहाज मुंबई में पहले से दाखिल हैं।